SubhashPark Masjid Banega

प्रकाशनार्थ

ईसाइयत/इस्लाम की जालसाज़ी मानव मात्र को दास बनाने अन्यथा कत्ल करने के लिए की गई है! अतः भारतीय दंड संहिता की धाराओं ९७, १०२ व १०५ से प्राप्त प्राइवेट प्रतिरक्षा के अधिकार के अधीन मुझे अपने व मानव जाति के प्राण रक्षा का अधिकार है| अतएव मैं इन संस्कृतियों को धरती पर नहीं रहने दूंगा| मैं मानव मात्र से निवेदन करता हूँ कि ईसाइयों और मुसलमानों सहित जिसे भी सम्पत्ति व पूँजी का अधिकार, दासता से मुक्ति, अपनी नारियों का सम्मान, अपने पूर्वजों की संस्कृति आदि चाहिए, इस युद्ध मे मेरा साथ दें|

दिल्ली उच्च न्यायालय को इस मामले को एएसआई को सौंपने का कोई अधिकार नहीं है| न १८५७ के पूर्व की स्थिति कोई मतलब रखती है| क्यों कि काबा आर्यों का ज्योतिर्लिंग है, अजान ईशनिन्दा है, मस्जिदसेनावास हैं व कुरान सारी दुनिया में फुंक रही है.

१४३३ वर्ष पूर्व मुसलमान नहीं थे| सभी मुसलमान स्वधर्म त्यागी हैं| इस्लामी हठधर्म स्वधर्मत्यागी को कत्ल करता है| (कुरान ४:८९). हमारे पूर्वजों से भूल हुई है| उन्होंने इस्लाम की हठधर्मी को मुसलमानों पर लागू नहीं किया| हर काफ़िर आर्यावर्त सरकार को सहयोग दे| आर्यावर्त सरकार मुसलमानों की हठधर्मी मुसलमानों पर लागू करेगी| धरती पर ईसाइयत/इस्लाम नहीं रहने देगी|

काबा हमारा ज्योतिर्लिंग है| इसके अतिरिक्त पुरातत्व विभाग ने महरौली के क़ुतुब मीनार (विष्णु ध्वज) परिसर में एक बोर्ड लगाया है, जिसमे लिखा है कि परिसर में निर्मित मस्जिद का निर्माण २७ मंदिरों को तोड़ कर उनके मलबे से हुआ है| सोनिया सरकार और न्यायालय मस्जिदों को तोड़ कर हमारे २७ मंदिरों का निर्माण कराए| इसके अतिरिक्त सउदी सरकार से हमारे ज्योतिर्लिंग को परिसर में ३५९ मूर्तियों का निर्माण करा कर वापस कराए| इस विषय में मैंने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय हेग में याचिका भी भेजी है|

पिक्थाल के कुरान में १७:८१ के टिपण्णी में स्पष्ट लिखा है कि काबा हमारा ज्योतिर्लिंग है| स्वर्गीय स्वामी वामदेव ने जामा मस्जिद को हमारा मंदिर बताया है| हमारे आचार्य मदन जी और पी० एन० ओक जी ने भी जामा मस्जिद पर बहुत कुछ लिखा है| पुरातत्व विभाग जामा मस्जिद की खुदाई कराए| 

अल्लाह व उसके इस्लाम ने मानव जाति को दो हिस्सों मोमिन और काफ़िर में बाँट रखा है| धरती को भी दो हिस्सों दार उल हर्ब और दार उल इस्लाम में बाँट रखा है. (कुरान ८:३९) काफ़िर को कत्ल करना व दार उल हर्ब धरती को दार उल इस्लाम में बदलना मुसलमानों का मजहबी अधिकार है. (एआईआर, कलकत्ता, १९८५, प१०४). चुनाव द्वारा भी इनमें कोई परिवर्तन सम्भव नहीं|

http://www.aryavrt.com/fatwa

भारतीय संविधान के अनुच्छेद १५९ के अधीन राज्यपाल शपथ/प्रतिज्ञान लेता हैमैं ... पूरी योग्यता से संविधान और विधि का परिरक्षणसंरक्षण और प्रतिरक्षण करूँगा|

प्रजातंत्र संख्या के आधार पर सरकार बनाने पर आधारित व्यवस्था है| मुसलमानों को चार विवाह और तीन तलाक का अधिकार और लव जेहाद की छूट सोनिया सरकार वैदिक सनातन धर्म को मिटाने के लिए दिए हुए है| सोनिया सरकार मस्जिदों से इमामों से ईशनिंदा करवा रही है और काफिरों को कत्ल करने और इंडिया को दार उल इस्लाम बनाने की शिक्षा दिलवा रही है|

यदि सोनिया सत्ता में रहेगी तो वैदिक सनातन धर्म और मंदिर नहीं रहेंगे!

अंग्रेजों की कांग्रेस ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) का संकलन कर जिन विश्व की सर्वाधिक आबादी ईसाइयत और दूसरी सर्वाधिक आबादी इस्लाम को वैदिक सनातन धर्म को मिटाने के लिए इंडिया में रोका है, उन्होंने जहां भी आक्रमण या घुसपैठ की, वहाँ की मूल संस्कृति को नष्ट कर दिया. लक्ष्य प्राप्ति में भले ही शताब्दियाँ लग जाएँ, ईसाइयत और इस्लाम आज तक विफल नहीं हुए| भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) से अधिकार प्राप्त कर ईसाइयत व इस्लाम मिशन व जिहाद की हठधर्मिता के बल पर वैदिक संस्कृति को मिटा रहे हैं| मंदिर तोड़ रहे हैं| मंदिरों के चढ़ावों को लूट रहे हैं|

वे हठधर्मी सिद्धांत हैं, "परन्तु मेरे उन शत्रुओं को जो नहीं चाहते कि मै उन पर राज्य करूंयहाँ लाओ और मेरे सामने घात करो." (बाइबललूका १९:२७) और "और तुम उनसे (काफिरों से) लड़ो यहाँ तक कि फितना (अल्लाह के अतिरिक्त अन्य देवता की उपासना)  बाकी न रहे और दीन (मजहब) पूरा का पूरा (यानी सारी दुनियां में) अल्लाह के लिए हो जाये." (कुरानसूरह  अल अनफाल ८:३९). (कुरान, बनी इस्राएल १७:८१ व कुरानसूरह अल-अम्बिया २१:५८). (बाइबलव्यवस्था विवरण १२:१-३). स्पष्टतः वैदिक सनातन धर्म मिटाना दोनों का घोषित कार्यक्रम है.

 आप्त


Comments