Rape of Damini

मैं यहां बड़ी नहीं करूंगा अपनी बेटी: अभिषेक बच्चन

बाहर तो ईसाई देशो में स्कूलों में गर्भ निरोधक गोलियां बांटी जाती हैं और इस्लामी देशो में ६ साल की बच्ची से ६० साल का जवान निकाह करता है, वह भी अल्लाह के सहयोग से! फिर क्या उपाय करेंगे अभिषेक?

Http://www.aryavrt.com/kautumbik-vyabhichar

+++

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने गैंगरेप पीड़िता की मौत पर गहरा दुख जताया है। उन्होंने कहा कि एक महिला होने के नाते वह सभी लोगों की संवेदना समझती हैं। सोनिया गांधी ने आश्वासन दिया हैं कि लोगों की आवाज सुनीं जाएगी, सरकार तक इनकी बात पहुंच रही है।

धरती के किसी नारी का बलात्कार या तो ईसाई करेगा अथवा मुसलमान| (बाइबल, याशयाह १३:१६) और (कुरान २३:६)

सोनिया जी! जल्दी कीजिए और जेहोवा, अल्लाह और यूएनओ को फांसी पर लटकाइये| भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) को निरस्त कीजिए| अन्यथा घड़ियाली आंसू बहाना बंद कीजिये! विवरण के लिए क्लिक कीजिए|

Http://www.aryavrt.com/kautumbik-vyabhichar

बलात्कार तो भारतीय संविधान से पोषित ईसाइयत और इस्लाम से प्रायोजित है! क्या सोनिया भारतीय संविधान में संशोधन करेगी?

फिल्म अभिनेता अभिषेक बच्चन ने कहा है कि इस देश में वह अपनी बच्ची को बड़ा होता नहीं देखना चाहते हैं। यह देश वैसा नहीं रहा जैसा उन्होंने बचपन में देखा था।

इस दुखद हादसे पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि लड़की की मौत को बेकार नहीं जाने दिया जाएगा, आरोपियों को फांसी देने की मांग की जाएगी।

फटाफट अपनी धरती और सम्पत्ति की पाकिस्तान से मांग करें मनमोहन अन्यथा पाकिस्तान चले जाएँ|

पीड़िता की मौत पर राष्ट्रपति ने गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि देश की बहादुर लड़की को हमने खो दिया। वह समाज की सच्ची नायक है। वह साहसी और बहादुर थी, स्वाभिमान और जीवन के जंग दोनों ही परिस्थिति में वह अंतिम समय तक लड़ी। इस वीभत्स अपराध के लिए अपराधियों को जल्द और कड़ी सजा दिलाने के लिए ठोस कदम उठाए जाने चाहिए। राष्ट्रपति ने कहा है कि पूरा देश विलाप कर रहा है। लेकिन हमें शांति कायम रखनी चाहिए और सरकार को न्याय दिलाने के लिए सख्त कदम उठाना चाहिए।

दादा! क्या आप जानते हैं की नारी बलात्कार भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) से प्रायोजित है और आप ने भारतीय संविधान के परिरक्षण, संरक्षण और प्रतिरक्षण की शपथ ली है! फिर किस मुंह से आप न्याय दिलाने की बात कर रहे हैं?

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि देश की बेटी की मौत से उन्हें गहरा दुख हुआ है। इस बच्ची के साथ हुई इस हादसे से पूरा देश रो रहा है। हम पीड़िता के परिवार को हादसे को सहन करने की शक्ति की दुआ करते हैं।

यह मुजाहिद अंसारी का तक्किया है या कितमान? हामिद स्पष्ट करें| क्यों की अल्लाह ने अंसारी को हर काफ़िर नारी के बलात्कार का अधिकार दे रखा है|

दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने भी गहरा शोक व्यक्त किया। अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए सीएम शीला ने कहा कि ये भाषण देने का समय नहीं है। इस समय पीड़िता के परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति मिले। इसकी दुआ करने की जरूरत है। शीला ने कहा कि उन्हें इस तरह की घटना पर शर्म आती है और दुख होता है। समाज की मानसिकता पर भी अप्रत्यक्ष रूप से सवाल उठाया।

मुसलमानों की सास शीला पहले अपनी बेटी को दामाद से गुजारा भत्ता ही दिला कर दिखाए!

भारतीय संविधान का संकलन कर यह देश संयुक्त रूप से ईसाइयों व मुसलमानों को सौंप दिया गया है| अतः शीला हमारे समाज की बात न करें| बात करें उस समाज की जिनको गांड मराने, सहजीवन और सगोत्रीय विवाह का सोनिया ने अधिकार दिलाया है|

लोक सभा स्पीकर मीरा कुमार ने गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि पीड़िता की निर्भयता आज महिलाओं के लिए शक्ति का प्रतीक बन चुका है। हमने एक बहादुर लड़की को खो दिया है। उसकी साहस हमारे लिए प्रेरणा स्त्रोत है।

बहादुरी ने क्या कर लिया? और नारियाँ कर भी क्या लेंगी? उनका शत्रु तो स्वयं भारतीय संविधान है, जिसकी रक्षा के लिए मीरा कुमार ने शपथ ली है?

विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा है कि लड़की की मौत देश के लिए सदमा है। हमें और जागरुक होने की जरूरत है जिससे की हम अपनी बेटियों को सुरक्षित भविष्य दे सकें।

स्वराज को बेटियों को सुरक्षित भविष्य देना हो तो ईसाइयत और इस्लाम को मिटाने में अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार का सहयोग करें|

मानव संसाधन राज्य मंत्री शशि थरूर ने ट्विटर पर कहा है कि हमने एक बहादुर बहन को खो दिया है।

और ऐसे ही तब तक खोते रहेंगे, जब तक भारतीय संविधान का अनुच्छेद २९(१) रहेगा|

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने गैंगरेप पीड़िता की मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

शोक का कोई लाभ नहीं| पिता जी से कहिये कि भारतीय संविधान की शपथ को तोड़ने की घोषणा करें|

जाने-माने गीतकार जावेद अख्तर ने कहा है कि गैंगरेप की शिकार पीड़ित भले ही हमारे बीच से चली गई है। लेकिन उसकी मौत कई सवालों के जवाब मांग रही है।

सबसे बड़ा सवाल ही यही है कि ईसाइयत और इस्लाम धरती पर क्यों हैं?

केंद्रीय मंत्री कृष्णा तीरथ ने दुख जताते हुए कहा कि अब वक्त है जब सरकार उन दरिंदगों को कड़ी सजा दिलवा पाने में कामयाब हो जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिया है। उन्होंने कहा कि पूरी कोशिश के बाद आज हम हार गए।

जब तक भारतीय संविधान, ईसाइयत और इस्लाम है, हम हारते ही रहेंगे|

'अमानत' कहें या 'दामिनी', अब ये सिर्फ एक नाम हैं। उसके शरीर की मौत हो गई है, लेकिन उसकी आत्मा हमारे दिलों को झकझोरती रहेगी।

अमिताभ बच्चन, बॉलीवुड स्टार

लेकिन अमिताभ जी भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) के विरुद्ध आवाज नहीं उठाएंगे!

क्या उसे दूर देश में मरने के लिए सिंगापुर भेजा गया था? लेकिन लोगों को उसकी शवयात्रा निकालने की जरूरत नहीं है, वे उस लड़की की कहानी जानते हैं।

तसलीमा नसरीन, बांग्लादेशी लेखिका

डाक्टर तसलीमा जी! क्या आप जानती हैं कि इस्लाम काफ़िर नारी के बलात्कारी को जन्नत में हूरें देता है?

हम वह देश हैं, जहां लड़की को पैदा होने से पहले ही मार दिया जाता है। मेरी माताओं से अपील है कि वो लड़कियों की इज्जत करें।

बरखा दत्त

तो क्या हम अपनी लड़कियां पैदा कर ईसाइयत और इस्लाम के दरिंदों को लव जिहाद और सामूहिक बलात्कार के लिए सौंप दें?

साल का समापन इतनी दर्दनाक खबर के साथ हो रहा है।

नेहा धूपिया, अभिनेत्री और मॉडल

नेहा अपनी खैर मनाएँ| भारतीय संविधान का अनुच्छेद २९(१) नारी बलात्कार का परिरक्षण, संरक्षण और प्रतिरक्षण करने के लिए संकलित किया गया है|

आज बड़े शोक का दिन है। अपराधियों को सजा दिलाने का कानून पूरी तरह निष्क्रिय साबित हुआ है। भविष्य में इस तरह की घटना न होने पर कदम बढ़ाना होगा।

किरण बेदी

नारी बलात्कार भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) से प्रायोजित है| नारी सम्मान बचाना है, तो भारतीय संविधान, ईसाइयत और इस्लाम को मिटाने में अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार को सहयोग दें|

इस घटना ने इंसाफ की जो मशाल जलाई है वह बुझेगी नहीं हमेशा जलती रहेगी। इस घटना ने मुझे दहलाकर रख दिया है।

प्रीतीश नंदी

लेकिन नंदी को ईसाइयत और इस्लाम ने कभी नहीं दहलाया|

इस घटना के आरोपियों को सजा जल्द से जल्द देनी चाहिए। इस घटना पर देशवासियों को अंधेरे में रखा गया है।

अभिजीत मजूमदार

सजा देना है तो ईसाइयत और इस्लाम को दो| देशवासियों को तो १९५० से ही अँधेरे में रखा गया है|

ये मानवता की हत्या है। यह गैंगरेप पीड़ित युवती की मौत से ज्यादा घटिया व्यवस्था की मौत है।

अनुपम खेर

खेर जी जब तक भारतीय संविधान का महिमा मंडन करेंगे, व्यवस्था की मौत होती रहेगी|

आज का दिन बहुत ही दुखभरा है। क्योंकि गैंगरेप की शिकार एक जांबाज लड़की जिंदगी की जंग हार गई।

सोनम कपूर

क्या सोनम जानती हैं कि काफ़िर नारी का बलात्कार करने से मुसलमान को जन्नत में हूरें मिलती हैं? अतएव यदि भारतीय संविधान का अनुच्छेद २९(१) रहेगा तो ऐसी घटनाएँ होती रहेंगी|

एक लड़की का मानवीय क्रूरता के कारण गुजर जाना अत्यंत दुखद है। फास्ट ट्रेक कोर्ट का गठन करों और इंसाफ करों।

विजय माल्या, उद्योगपति

अपनी खैर मनाएं माल्या जी! सोनिया उनकी सम्पत्ति भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३९(ग) से छीनेगी और नारियां और जान भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) से प्राप्त अधिकार से छीनेगी| अब तो एफडीआई भी लागू हो गई है!

सिंगापुर में बहादुर दामिनी की मौत हो गई। वह अंत तक बहादुरी से लड़ी। उसकी मौत बेकार नहीं जाएगी।

नवीन जिंदल, सांसद

क्या जिंदल जी भारतीय संविधान बदल देंगे?

शबाना आजमी ने ट्वीट कर कहा है कि इस घटना के बाद हमारी नाकामी हमें जीभ चिढ़ा रही है। लड़की की मौत कई सवाल खड़े कर गई है आखिर कब तक ऐसा होता रहेगा और कब तक लड़कियां ऐसे ही मरती रहेंगी।

शबाना जी! जब तक भारतीय संविधान, ईसाइयत और इस्लाम है, ऐसा होता रहेगा|

पूर्व आइपीएस और सामाजिक कार्यकर्ता किरण बेदी ने कहा है कि आज का दिन निर्भय दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए।

जब तक भारतीय संविधान, ईसाइयत और इस्लाम है, ऐसी घटनाओं की पुनरावृति नहीं रुक सकती|

अरविंद केजरीवाल ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए 11 बजे जंतर-मंतर पर जुटने की अपील की है।

क्या सोनिया से सलाह ले लिया है?

सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद केजरीवाल ने सवाल उठाते हुए कहा है कि क्या हम सभी पीड़िता के इस मौत के लिए जिम्मेदार नहीं हैं। अब हमें अपने अंदर इस कदर सुधार करना चाहिए ताकि मानवता जीवित रह सके।

हम तो सोनिया की भेंड़ हैं| मुक्ति चाहें तो अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार को सहयोग दें| ताकि ईसाइयत और इस्लाम को मिटाया जा सके|

शेखर कपूर ने कहा है कि प्रेशर कुकर की तरह लोगों के अंदर गुस्सा उबल रहा है। लोगों को उस लड़की के लिए हिंसा नहीं करनी चाहिए इससे राच्य की सुरक्षा में खतरा हो सकता है।

यह सोनिया का रोम राज्य है और हमारी भलाई इसी में है कि रोम राज्य पर संकट आये|
 
Comments