PENSION SAT APPEAL

Your Request/Grievance Registration Number is : PRSEC/E/2013/13053

http://helpline.rb.nic.in/

This is a public document. Anyone can view the status from the web site by typing the above Request/Grievance Registration Number. There is no pass-word.

 

http://www.aryavrt.com/pension-sat-appeal

प्रेषक;

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी पुत्र स्व० बेनी माधव त्रिपाठी,

मंगल आश्रम, टिहरी मोड़, मुनि की रेती, ऋषिकेश, टिहरी गढ़वाल २४९१३७ उख

फोन; ९१५२५७९०४१

दिनांक; गुरुवार, १५ अगस्त २०१३य

विषय: सूचना प्राप्ति के लिए अपील की सुनवाई दिनांक १३ अगस्त, २०१३.

प्रतिष्ठा में,

माननीय मुख्यमंत्री श्री विजय बहुगुणा जी,

देहरादून, उत्तराखण्ड|

विषय; पेंशन व देयक अवशेषों के भुगतान हेतु आरटीआई के अधीन सूचना का अनुरोध|

सन्दर्भ: अधिशासी अभियंता, सिचाई खंड, चमोली, का पत्र क्रमांक १२५४/सिखच/कोर्टकेस/ दिनांक: १७-०५-२०१३ तदुपरांत लोक सूचना अधिकारी, पी०एम०गी०एस०वाई०, सिचाई खंड, श्रीनगर, गढ़वाल पत्रांक १२६३/ पी०एम०गी०एस०वाई०सि०ख०/ सू०अधि०/ का पत्र दिनांक २२/०६/२०१३. तदुपरांत अधिशासी अभियंता, सिचाई खंड, श्रीनगर गढ़वाल पत्रांक १५२४/सि०ख०श्री/पेंशन/ दिनांक जुलाई १६, २०१३. अंततः सम्पन्न हुई सुनवाई दिनांक १३-०८-१३.

मान्यवर महोदय,

सुनवाई के लिए मैं आप के सिचाई विभाग का आभारी हूँ|

उपरोक्त प्रकरण के सन्दर्भ में आज मुझे सूचना मिल चुकी है कि मेरा स्थानान्तरण ३१ जुलाई, १९८४ को, फैजाबाद नलकूप मंडल में कर दिया गया है| मैं स्थानान्तरण पत्रों की छाया प्रति दिए जाने के लिए भी आप के सिचाई विभाग का आभारी हूँ|

अपने स्थानान्तरण का मुझे उस समय ही ज्ञान था| लेकिन मेरी सेवा पुस्तिका (आज गायब) विष्णु प्रयाग निर्माण प्रखंड ३ में नहीं थी (संलग्नक १) और न मेरे वेतन प्रकरण का निस्तारण ही किया गया था| अतएव मैने अपने सहायक अभियंता प्रथम को पत्र दिया था कि बिना सेवा पुस्तिका में सत्यापन और वेतन विवाद का निस्तारण किये मुझे कार्य मुक्त न किया जाये| इसके लिए मैंने तहसील कार्यालय में धरना भी दिया था| इस कार्य के लिए मैं बनारस चला भी गया था| (संलग्नक २) मेरी अनुपस्थिति में मेरा स्थानान्तरण इसलिए किया गया कि विभाग के कर्मचारियों को कार्य न करना पड़े|

आप के सिचाई विभाग ने मुझे यह सूचना नहीं दी कि मेरी अनुपस्थिति में बिना सेवा पुस्तिका के और बिना मेरे पत्र दिनांक २८-०७-१९८४ में उल्लिखित विवादों का निस्तारण किये मुझे कार्य मुक्त किये जाने के कारण संलग्नक ४ व ५ के अधीन मुझे पेंशन कौन देगा? मेरी अंतिम सेवा विष्णु प्रयाग परियोजना ३ में ही रही - अतएव पेंशन आप को ही देनी पडेगी| २९ वर्षों से विलम्ब के अनुमानित कारण, निम्नलिखित लगते हैं:-

वस्तुतः जब सरकारी नौकरी दी जाती है, तो लोकसेवक कार्य करेगा या नहीं, यह नहीं पूछा जाता, बल्कि योग्यता पूछी जाती है| अतएव वेतन तो लोक सेवक को योग्यता अर्जित करने के लिए मिलता है| कार्य करने के लिए कर्मचारी को अलग से (सोनिया या उसके मातहतों को देने के लिए) सुविधा शुल्क देना आवश्यक है| मेरे साथ समस्या सेवा प्रारम्भ करने से आज तक यही है कि मैं कभी भी सुविधा शुल्क न दे पाया| अतएव नौकरी भी नहीं कर पाया| बिना पेंशन व शेष भुगतान के मेरे २९ वर्ष गुजर गए| वस्तुतः, भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३९(ग) के अधीन लोकसेवक की नियुक्ति ही नागरिकों को लूटने के लिए की जाती है और इसके लिए राष्ट्रपति और राज्यपाल भारतीय संविधान के अनुच्छेद ६० व १५९ के अधीन शपथ लेकर लोकसेवक को दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के अधीन संरक्षण देने के लिए बाध्य हैं|

आज स्थिति यह है कि उत्तर प्रदेश मुझे पेंशन इसलिए नहीं देगी कि मैंने १९८४ के स्थानान्तरण के बाद विभाग में सेवा की ही नहीं| मेरी अंतिम सेवा उत्तराखंड में रही| इस आशय का पत्र प्रमुख अभियंता उत्तर प्रदेश ने प्रमुख अभियंता उत्तराखंड को लिख भी दिया है| (संलग्नक ३). चूंकि ट्रिब्यूनल ने मेरे पक्ष में निर्णय दिया है, अतएव यदि मुझे पेंशन मिलेगी तो उत्तराखंड से ही मिलेगी| क्यों कि मेरी अंतिम सेवा उत्तराखंड की है|

माननीय मुख्यमंत्री जी, मुझे आप से कोई शिकायत नहीं है| यह मेरे पूर्वजों के कर्मों का फल है, जो मुझे भुगतना पड़ रहा है| जब से लुटेरे और मौत के फंदे भारतीय संविधान के अनुच्छेदों ३९(ग) व २९(१) का संकलन किया गया, तब से आज तक सबने, यहाँ तक कि आप ने भी, इसी भारतीय संविधान में आस्था व निष्ठा की शपथ ली, लेकिन किसी ने भी विरोध नहीं किया| कोई कर भी नही सकता| हमने विरोध किया और २००८ से आज तक हमारे साथी बिना किसी अभियोग के जेलों में बंद हैं| पूर्व राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी रंडी उज्जवला के लिए दूध की मक्खी हो गए| केंद्र में सोनिया है और आप की छाती पर अजीज| मात्र हम ही वैदिक सनातन संस्कृति को बचा सकते हैं| बकाया राशियां देकर मेरी सहायता करें| अर्जी मेरी मर्जी आप की!

प्रार्थी

 

(अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी) फोन ९१५२५७९०४१

दिनांक: दिनांक; गुरुवार, १५ अगस्त २०१३य

 

संलग्न: संलग्नक १ से ५ तक|


 

 

Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Aug 15, 2013, 1:29 AM
ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Aug 23, 2013, 9:57 PM
Comments