PENSION PSSUP 17210

प्रेषक;

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी पुत्र स्व० बेनी माधव त्रिपाठी,

मंगल आश्रम, टिहरी मोड़, मुनि की रेती, ऋषिकेश, टिहरी गढ़वाल २४९१३७ उख

फोन; ९१५२५७९०४१

पत्रांक; CEUK PENSION 14624 REMR 14818Y     दिनांक; १८ अगस्त २०१४

विषय: ३० वर्षों से लटका पेंशन विवाद.

विषय; पेंशन व देयक अवशेषों के भुगतान हेतु आरटीआई के अधीन सूचनायें.

सन्दर्भ: मुख्य अभियंता एवं विभागाध्यक्ष (कार्मिक अनुभाग) सिचाई विभाग, उख का पत्र संख्या ३१३०/ मु०अ०/ सि०वि०/ कार्मिक/ ई-६ (कोर्ट केस) दिनांक: १८ जून, २०१४.

प्रतिष्ठा में,

माननीय मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत जी!

देहरादून, उत्तराखण्ड.

 

मान्यवर महोदय,

मैं आप का ध्यान मुख्य अभियंता एवं विभागाध्यक्ष (कार्मिक अनुभाग) सिचाई विभाग, उख द्वारा प्रेषित मुख्य अभियंता गढ़वाल के उपरोक्त पत्र की ओर आकर्षित करना चाहता हूँ, जिसमें अधिकारियों से नियमानुसार कार्यवाही की अपेक्षा की गई है|

दो माह बाद भी आज तक कृत कार्यवाही से मुझे अवगत नहीं कराया गया है|

प्रार्थना

मेरी सेवा पुस्तिका २९ सितम्बर, १९८३ से ही गायब है. आप ने मेरे कल्याण की शपथ ली है| मैं गम्भीर रूप से बीमार चल रहा हूँ| मुझे तत्काल आर्थिक सहायता की आवश्यकता है| मामले के निस्तारण तक मुझे अंतरिम पेंशन दिलाने की व्यवस्था करें|

प्रार्थी

 

(अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी) फोन ९१५२५७९०४१

दिनांक; १८ अगस्त. २०१४

 

संलग्न: संलग्नक १ से ८ तक|  कुल १३ संलग्नक.

प्रतिलिपि; मुख्य अभियंता एवं विभागाध्यक्ष (कार्मिक अनुभाग) सिचाई विभाग, उख

२. मुख्य अभियंता गढ़वाल, सिचाई विभाग, उख

३. अधीक्षण अभियंता, सिचाई मंडल, श्री नगर, गढ़वाल.

४. अधिशासी अभियंता PMGSY, श्री नगर, गढ़वाल,

५. अध्यक्ष/महामंत्री, विद्युत एवं यांत्रिक डिप्लोमा इंजीनियरिंग संघ, सिचाई विभाग, उत्तराखण्ड.

६. श्री मनोज कुमार रस्तोगी समाज सेवी.

 संलग्नकों का संछिप्त विवरण;

०. दिनांक ४ जुलाई, २०१४ को अधिशासी अभियंता PMGSY, श्री नगर, गढ़वाल, को भेजे गए पत्र की छाया प्रति.

१. अमर उजाला समाचार पत्र की कतरन.

२. माननीय लोक सेवा अभिकरण के निर्णय की छाया प्रति.

३. सेवा पुस्तिका का कथित रूप से प्रेषण.

४. बिना सेवा पुस्तिका और विवादों के निस्तारण के कार्य मुक्त न किये जाने का आग्रह.

५. अधिशासी अभियंता PMGSY श्रीनगर का उत्तर कि मेरी सेवा पुस्तिका मूसाखंड बाँध प्रखंड, वाराणसी भेजी गई.

५अ. अधिशासी अभियंता,  मूसाखंड बाँध प्रखंड, वाराणसी द्वारा सेवा पुस्तिका मूसाखंड बाँध प्रखंड, वाराणसी को भेजे जाने का खंडन.

५ब. अधिशासी अभियंता,  मूसाखंड बाँध प्रखंड, वाराणसी द्वारा नियमानुसार पूरे मामले का निस्तारण उत्तराखंड द्वारा किये का सुझाव.

६. मुख्य अभियंता एवं विभागाध्यक्ष (कार्मिक अनुभाग) सिचाई विभाग, उख का पत्र संख्या ३१३०/ मु०अ०/ सि०वि०/ कार्मिक/ ई-६ (कोर्ट केस) दिनांक: १८ जून, २०१४

७. जीओ बिना सेवाओं के स्थाई करण के पेंशन का भुगतान.

७ सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय कि सेवा निवृत्ति के बाद विभागीय कार्यवाही नहीं हो सकती.

७. सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय कि पेंशन सम्पत्ति है और इसे विभागीय आदेश से नहीं रोका जा सकता.

८. अधिशासी अभियंता,  मूसाखंड बाँध प्रखंड, वाराणसी का निर्देश कि मैं अपने मामले में उत्तराखंड सरकार से ही पत्र व्यवहार करूं.

Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
2-SAT8P.pdf
(1626k)
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
7-SCP5.pdf
(1319k)
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 9, 2017, 6:50 PM
Comments