PENSION PSSUP 17209

पत्रांक; 17209PSSUP                  DATED; February 09, 2017

विषय: पेंशन.

संदर्भ: दिनांक फरवरी ९, २०१७ की विशेष बैठक.

प्रमुख सचिव सिचाई, उप्र.

महोदय,

बैठक के पश्चात मेरी मोबाइल पर किसी अधिकारी से कल ०९ फरवरी. २०१७ को वार्ता हुई थी. जिसमे मुझे बताया गया कि मैंने सुल्तानपुर में सेवा की है. मैंने चंद्रप्रभा प्रखंड वाराणसी में भी नौकरी की है. दोनों ही बातें गलत हैं. लेकिन इनको गलत सिद्ध करने के लिए मुझे कम से कम १० वर्षों का समय चाहिए.

मैं इसके लिए तैयार हूँ. मेरे निलम्बन काल में एलिजाबेथ के उपनिवेश की सरकार ने गुजारा भत्ता दिया था. कृपया मुझे अगस्त १९८४ से आगे मेरे विवाद के निर्णय तक गुजारा भत्ता दीजिए.

दूसरी बात मुझे बताई गई कि चूंकि मेरी सेवाएं अस्थाई थीं, अतः मुझे पेंशन नहीं मिल सकती. मैं शासन का जीओ संलग्न कर रहा हूँ. विवरण के लिए नीचे की फाइल क्लिक करें:-

7-GO89701.PDF

सेवा पुस्तिका

मैं आप को लिख चुका हूँ, “मेरी सेवा पुस्तिका विष्णुप्रयाग निर्माण खंड ३  के अधिकारियों या कर्मचारियों ने गायब की है. चूंकि अपराध एलिजाबेथ के हित में सरकारी सेवा काल में किया गया है. अतः दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के बाध्यता के अधीन कोई न्यायालय सुनवाई नहीं कर सकता. मुझे बताएं कि अपने नियम विरुद्ध कार्य करने वाले कर्मचारियों/अधिकारियों के विरुद्ध आप ने क्या कार्यवाही की?

मेरा मामला पेंशन नियम ६४ या ६९ के अंतर्गत आता है. नियम का निचोड़ नीचे दे रहा हूँ.

“It has, accordingly, been decided that if, in future, service records are found to be incomplete or imperfect at the time of processing and finalizing pension cases, those cases will not be delayed but the officials responsible for the maintenance of the records will be held accountable for any deficiencies, failure or omissions therein, and action will be initiated against them. The Heads of Departments will ensure that these directions are complied with…

“Statements required to be maintained for proper monitoring and reporting system. - In simplifying the procedure with a view to eliminate delays in the payment of superannuation pension and retirement gratuity Government have proceeded on the basis that in spite of every effort imperfections may remain in the records and procedures but that it would be unfair to a retiring Government servant if he had to suffer because of the lapses of those responsible for the proper maintenance of service records. The fact that under the new procedures the presumption will be in favour of the Government servant if the records are incomplete or deficient in any manner underlines the importance of ensuring the proper, regular and timely completion of all the service and accounts records by the offices concerned, so as to  minimise the occasion for making such presumptions…

 “Any case, where payment of pension is delayed, has to be viewed seriously. The causes of delay in such a case have to be identified and remedial steps taken so that such delays should not occur in future. This can only be ensured if the Heads of the Departments will personally scrutinize the statements and issue such directions as they may consider necessary where payments of pensions have been delayed. Any deficiency in the procedure should be brought to the notice of this ministry at the appropriate level so that rules may be amended accordingly.”

मेरे आग्रह दिनांक २८ जुलाई, १९८४ के बाद भी मेरी सेवा पुस्तिका को गायब उत्तराखंड ने किया है, मैंने अपने वेतन और अन्य विवादों के कारण ट्रिब्यूनल में १९८३ में ही याचिका डाल दी थी और मेरी सेवा पुस्तिका को बदले के भावना से गायब किया गया है. ट्रिब्यूनल के निर्णय से ही मेरी १६ वर्ष की सेवाएं सत्यापित हो चुकी हैं.

संलग्न फाइल 4-JM84728.PDF

मेरा आग्रह है कि आप अपने कर्मचारियों को दंडित कीजिए. और मुझे अविलम्ब अनंतिम पेंशन दीजिए.

अंतिम २ बातें और,

सर्वोच्च न्यायालय ने पेंशन को सम्पत्ति माना है. उसे मुझसे नहीं छीना जा सकता. विवरण के लिए नीचे की संलग्न फाइल क्लिक करें:-

7-SCP5.PDF

सर्वोच्च न्यायालय ने निर्णय दिया है कि मेरे सेवा मुक्त होने के बाद अब विभाग कोई कार्यवाही नहीं कर सकता.

7-SCJUD 14630.PDF

मेरा आग्रह है कि उप्र की भलाई इसमें है कि इसे उख को ही निपटने दे.

APT.

http://www.aryavrt.com/pension-pssup-17209


Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 10, 2017, 3:18 AM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 10, 2017, 3:18 AM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Feb 10, 2017, 3:18 AM
Ċ
7-SCP5.pdf
(1319k)
AyodhyaP Tripathi,
Feb 10, 2017, 3:19 AM
Comments