NGNLand BLJ

Your Request/Grievance Registration Number is : PRSEC/E/2012/10096

President Secretariat, New Delhi - 110004

Dated; Monday, July 23, 2012y

Web site: http://helpline.rb.nic.in/

This is a public document. Anyone can view the status from the web site by typing the above Request/Grievance Registration Number. There is no pass-word.

 

वैदिक धर्म बचाइए|

महामहिम बनवारी जी!

धर्मएव हतो हन्ति धर्मो रक्षति रक्षतः

तस्माद्धर्मो हन्तब्यो मानो धर्मो ह्तोऽवधीत.

अर्थ: रक्षा किया हुआ धर्म ही रक्षा करता है, और अरक्षित धर्म मार डालता है, अतएव अरक्षित धर्म कहीं हमे मार डाले, इसलिए बल पूर्वक धर्म की रक्षा करनी चाहिए. (मनु स्मृति :१५).

जो भी पन्थनिरपेक्ष है-आत्मघाती और अपराधी है| भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९() से प्राप्त अधिकार से अपने मजहब का पालन करते हुए उसकी हत्या या तो ईसाई (बाइबल, लूका १९:२७) करेगा अथवा मुसलमान (कुरान :१९१).

ईसा १० करोड़ से अधिक अमेरिकी लाल भारतीयों और उनकी माया संस्कृति को निगल गया. अब ईसा की भेंड़ सोनिया काले भारतीयों और उनकी वैदिक संस्कृति को निगल रही है| सोनिया के सहयोग से अर्मगेद्दन के पश्चात ईसा जेरूसलम को अपनी अंतर्राष्ट्रीय राजधानी बनाएगा| मुलायम के प्रिय इस्लाम सहित सभी मजहबों और संस्कृतियों को निषिद्ध कर देगा| केवल ईसा और उसके चित्र की पूजा हो सकेगी| बाइबल के अनुसार ईसा यहूदियों के मंदिर में ईश्वर बन कर बैठेगा और मात्र अपनी पूजा कराएगा| हिरण्यकश्यप की दैत्य संस्कृति न बची और केवल उसी की पूजा तो हो न सकी, अब ईसा की बारी है| विशेष विवरण नीचे की लिंक पर पढ़ें,

http://www.countdown.org/armageddon/antichrist.htm

 

बाइबल, कुरान और  भारतीय संविधान कुटरचित अभिलेख हैं, जो मानव मात्र को दास बनाने अन्यथा हत्या करने के लिए संकलित किये गए हैं| शासकों और पुरोहितों को उपरोक्त तीनों इसीलिए प्रिय हैं|

पूर्व राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी ने त्यागपत्र दे दिया| डीएनए जाँच के लिए खून भी दे दिया| क्यों कि वे तथाकथित यौन अपराधी हैं| सोनिया के ईसा ने हर बाप को बेटी से विवाह का अधिकार (बाइबल १, कोरिन्थिंस ७:३६) दे रखा है| अल्लाह हर स्वसुर को पुत्रवधू से निकाह का अधिकार देता है| (कुरान३३:३७-३८). लेकिन ईसाइयत और इस्लाम अपराधी नहीं हैं! क्या आप सोनिया, उसके ईसा व हामिद और उसके अल्लाह का कुछ बिगाड़ पाएंगे? क्यों कि ज्यों ही आप ने ईसाइयत और इस्लाम के विरुद्ध उंगली उठाई, मिटा दिए जायेंगे|

मुझे आप को श्राप देने की भी आवश्यकता नहीं है| आप दया के पात्र हैं| आप ने भारतीय संविधान के अनुच्छेदों २९(१) व ३९(ग) में आस्था व निष्ठा की शपथ ली है| आप मानव मात्र के शत्रु हैं| यहाँ तक कि ईसाई व मुसलमान को भी जीवन, सम्पति, उपासना स्थल, उपासना और स्वतंत्रता का अधिकार नहीं है| धरती की किसी नारी की मर्यादा नहीं बच सकती| सम्पत्ति और पूँजी तो किसी की बची ही नहीं| मैं आप से मिल नहीं सकता| आप की जीविका, पद एवं प्रभुता खतरे में पद जायेगी|

भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३९(ग) और दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के अधीन सोनिया द्वारा आप को नागरिकों की सम्पत्ति व पूँजी लूटने के लिए मनोनीत किया गया है| आप ने ईसाइयत और इस्लाम के हत्यारों, लुटेरों, आप की आस्था का अपमान करने वालों और नारियों के बलात्कारियों के अधिकारों के रक्षा की शपथ ली है| (भारतीय संविधान का अनुच्छेद १५९). आप ने मानव मात्र के प्राइवेट प्रतिरक्षा (भारतीय दंड संहिता की धाराएँ १०२ व १०५) का अधिकार छीन लिया है| आप दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९६ के अधीन अजान द्वारा मानव मात्र को गाली दिलवाने के लिए विवश हैं| आप ने अपने वैदिक सनातन धर्म की रक्षा का अधिकार त्याग दिया है| इसको जानने के लिए कृपया निम्नलिखित लिंक पर जाएँ:

http://www.aryavrt.com/Home/muj11w21-bhartiya-smvidhan

भारतीय संविधान के अनुच्छेद १५९ के अधीन शपथ लेकर आप ने जीविका, पद और प्रभुता हेतु, अपनी सम्पत्ति व पूँजी रखने का अधिकार स्वेच्छा से त्याग दिया है| भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३१ व ३९(ग). अपने जीवन का अधिकार खो दिया है| [बाइबल, लूका, १९:२७ और कुरान २:१९१, भारतीय संविधान का अनुच्छेद २९(१) के साथ पठित|] अपनी नारियां ईसाइयत और इस्लाम को सौँप दी हैं| (बाइबल, याशयाह १३:१६) और (कुरान २३:६). इसके बदले में आप को बेटी (बाइबल , कोरिन्थिंस ७:३६) से विवाह व पुत्रवधू (कुरान, ३३:३७-३८) से निकाह करने का अधिकार मिला है| जहां ईसाइयत और इस्लाम को अपनी संस्कृतियों को बनाये रखने का असीमित मौलिक अधिकार है, वहीँ आप को वैदिक सनातन धर्म को बनाये रखने का कोई अधिकार नहीं है|

आप के पास कानूनी सलाहकार, एलआईयू व सीबीआई है| जांच करिए| इंडिया के प्रत्येक नागरिक के पास ईसाइयत और इस्लाम को मिटाने का भारतीय दंड संहिता की धाराओं ९७, १०२ व १०५ के अधीन कानूनी अधिकार है| लेकिन दंड का अधिकार राज्य को ही है| आर्यावर्त सरकार की स्थापना वैदिक सनातन धर्म के रक्षा के लिए की गई है| ईसाइयों और मुसलमानों को उनके ही हठधर्मिता के अनुसार जीने का अधिकार नहीं है| निर्णय आप के हाथ में है| क्या आप हम लोगों की सहायता करेंगे, ताकि सोनिया आप की सम्पत्ति व पूँजी आप से न छीन ले, आप की आँखों के सामने आप के घर न लूट ले, आप के दुधमुंहे आप की आँखों के सामने पटक कर न मार डाले जाएँ, आप की नारियों का सोनिया आप की आँखों के सामने बलात्कार न करा पाए और आप कत्ल न हों? (बाइबल, याशयाह १३:१६). आर्यावर्त सरकार, यदि आप सहयोग करें तो, इन खूनी संस्कृतियों को धरती पर नहीं रहने देगी|

मुझको छोड़िये, आप के पास भी जीवन, सम्पत्ति और पूँजी का अधिकार नहीं है| राष्ट्रीय न्यायिक आयोग १९९० से नहीं बन सका| मेरी सभी सम्पत्तियों को एक एक कर सोनिया ने लूट लिया| आप मायावती और मुलायम को दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के अधीन संरक्ष्ण देने के लिए विवश हैं| अपराध आप, मायावती और मुलायम ने किया और मलाई सोनिया ने खाई| आगे भी खायेगी| कितने विवश हैं आप? क्या आप ईसाइयत और इस्लाम से आतंकित नहीं हैं? यदि नहीं तो आप से अच्छे तो पशु हैं| आप की तो आत्मा ही मर चुकी है|

माउंटबेटन ने ईसाइयत और ब्रिटिश राज्य के लिए अपनी बीबी एडविना जवाहरलाल नेहरु को सौंप दिया| क्या आप अपनी सनातन संस्कृति की रक्षा के लिए हमारी सहायता न करेंगे? विश्वास करिये आप को अपनी जेब से एक पैसा नहीं देना पड़ेगा|

आप के माध्यम से आप का भयादोहन कर सोनिया ने मुझे भिखारी बना दिया है| मैं आज भी हुतात्मा राम प्रसाद बिस्मिल स्मारक से जुड़ा हुआ हूँ| राजस्व अभिलेखों से स्मारक की ३.३ एकड भूमि से बिस्मिल जी का नाम गायब हो चुका है| प्रमाण के लिए केवल उनका वाचनालय और उनकी प्रतिमा अभी भी उपलब्ध है| सोनिया के सत्ता में आते ही आप के पूर्ववर्ती राज्यपाल टीवी राजेश्वर के निर्देश पर कलक्टर हरिओम ने स्मारक की भूमि मुसलमानों व व्यापारीयोँ के हाथों ३३ करोड़ रुपयों में बेच दी| मानव मात्र के हित में बदले में क्या आप मुझे अपने ही प्रान्त नॉएडा में व्यावसायिक भूमि देंगे? यदि आप ऐसा करते हैं तो आप का कुछ नहीं जायेगा|

मेरी पैत्रिक १.८८ एकड भूमि के राजस्व अभिलेखों में दो बार १९८५ व १९९४ में जालसाजी की गई| जालसाजी प्रमाणित है और दीवानी याचिका संख्या ९६७२/१९८८ रिट सी इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेशों दिनांकित २८.०७.१९८९ और ०९.०८.१९८९ पर उपलब्ध है| मानव मात्र के हित में बदले में क्या आप मुझे अपने ही प्रान्त नॉएडा में व्यावसायिक भूमि देंगे? यदि आप ऐसा करते हैं तो आप का कुछ नहीं जायेगा| इसकी सूचना मैं आप को दे चुका हूँ| इसको पुनः जानने के लिए कृपया निम्नलिखित लिंक पर जाएँ:

http://www.aryavrt.com/muj11w15c-jan-lokpal

मेरी ०९.०६.१९७५ में खरीदी गई २१० वर्गमीटर भूमि, जो राजस्व अभिलेखों में मेरे नाम से अंकित है, का दुबारा वही चौहद्दी दिखा कर ०९.०२.१९९९ को वीर बहादुर तिवारी ने बैनामा करा लिया| आप द्वारा चलाए गए इस फौजदारी अभियोग ७०२४/२००० राज्य सरकार बनाम शिव मंगल में पिछले १२ वर्षों से अभियुक्तों को अभियोग पत्र भी नहीं दिया जा सका है| क्या सच है और क्या झूठ यह तो भगवान, सोनिया और वीर बहादुर जाने, लेकिन वीर बहादुर मेंरे वकीलों को धमकाता है कि वह सोनिया का आदमी है और उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता| पीछे मुझ पर वीर बहादुर के आदमियों ने हमला भी किया था, जिसकी पुलिस ने शिकायत भी नहीं दर्ज की| इसके बाद अब वीर बहादुर इलाहाबाद उच्च न्यायालय गया है| सोनिया से भयभीत इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा १७.०१.२०१२ से आप के मामले में सुनवाई से रोक लगा दी गई है| इसकी सूचना मैं आप को दे चुका हूँ| इसको पुनः जानने के लिए कृपया निम्नलिखित लिंक पर जाएँ:

http://www.aryavrt.com/muj12w28-ngnlands

मानव मात्र के हित में क्या आप वीर बहादुर को जेल भेजवा पाएंगे? यदि आप ऐसा करते हैं तो आप का कुछ नहीं जायेगा|

मैं नवम्बर १९६६ से सिचाई विभाग में अवर अभियंता था| लेकिन मुझे पेंशन नहीं मिल रही है| क्या आप मुझे पेंशन दिला देंगे? यदि आप ऐसा करते हैं तो आप का कुछ नहीं जायेगा|

मैं कौन हूँ इसको जानने के लिए कृपया निम्नलिखित लिंक पर जाएँ:

http://www.aryavrt.com/Home/aseemananda/yes-we-are-bombing-mosques

http://www.aryavrt.com/Home/bhoomafia-rajypal-adhyadesh

मुझको लूटने के लिए आप क्यों विवश हैं, इसको जानने के लिए कृपया निम्नलिखित लिंक पर जाएँ:

http://www.aryavrt.com/Home/help-salvage-humanity

http://www.aryavrt.com/Home/mhan-snsad-snvidhan

वैदिक सनातन धर्म को बचाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री पूज्य श्री पी. वी. नरसिंहाराव ने मेरी सहायता की थी| उनके आशीर्वाद से ही मैं बाबरी ढांचा गिरवा सका| ईसाइयत और इस्लाम का समूल नाश आप नहीं कर सकते| लेकिन ईसाइयत और इस्लाम के समूल नाश में आप मेरी सहायता कर सकते हैं|

मेरी सहायता करने के कारण पूर्व प्रधानमंत्री पूज्य श्री पी. वी. नरसिंहाराव दूध की मक्खी हो गए| ६ दिसंबर, १९९२ को मैंने बाबरी ढांचा गिरवाया और ४ जनवरी, १९९३ को कुरान को प्रतिबंधित करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में जनहित याचिका १५/१९९३ लगाई| तब से आज तक मुझ पर ५० अभियोग चले| मालेगांव सहित ६ आज भी लम्बित हैं| मेरी सभी सम्पत्तियां सोनिया ने लूट लीं| यहाँ तक कि हुतात्मा रामप्रसाद और जगतगुरु स्वामी अमृतानंद देवतीर्थ सहित जो भी मुझसे जुड़ा, सभी पीड़ित हैं| मैं अब भिक्षा पर जीवित हूँ और ऋषिकेश में रह रहा हूँ| महामहिम मोतीलाल वोरा व विष्णु कान्त शास्त्री भी मेरी सहायता न कर सके| आप भी मेरी सीधे सहायता नहीं कर पाएंगे| पूर्व प्रधानमंत्री पूज्य श्री पी. वी. नरसिंहाराव तक न कर सके| मेरी सहायता वैसे ही हो सकती है-जैसे पूर्व प्रधानमंत्री पूज्य श्री पी. वी. नरसिंहाराव ने की|

आप के हित में है कि आप न मुझे बुलाएँ और न मुझसे मिलें| यह ईश्वर का कार्य है| मैं आशा करता हूँ कि मानव जाति को बचाने के लिए आप मेरी गुप्त सहायता अवश्य करेंगे| अन्यथा ईश्वर आप को क्षमा नहीं करेंगे|

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी (सूचना सचिव) फ़ो (+९१) ९१५२५७९०४१

 

Comments