Muj17W01AY LG FIR



मुजहना MUJAHANA weekly

77, Khera Khurd, Delhi-110082 (BHARAT)

R.N.I. REGISTRATION No.68496/97

Price this issue: Rs. 2/- Yearly Rs. 100/-. Life member Rs. 1000/-.

 


Mujahana• Bilingual-Weekly• Volume 22 Year 22 ISSUE 01A, Dec 30 - Jan 05, 2016. Published every Thursday for Manav Raksha Sangh, Registered Trust No 35091 by Ayodhya Prasad Tripathi, at 77, Khera Khurd, Delhi – 110082. ``Phone +91-9868324025.; +(91) 9152579041 . Printed by Ayodhya Prasad Tripathi at 77 Khera Khurd, Delhi-110082. Editor: Ayodhya Prasad Tripathi. Processed on Desk Top Publishing & CYCLOSTYLED by Ayodhya Prasad Tripathi.  Email: aryavrt39@gmail.com; Web site: http://aaryavrt.blogspot.com and http://www.aryavrt.com Muj17W01AY LG FIR Dated:05/01/2017

  

||श्री गणेशायेनमः||

पत्रांक: PMOPG17101   दिनांक: ०१/०१/१७

IN THE COURT OF SH. VIKRAM MM ROHINI DISTT. COURTS, DELHI

FIR No. 406/2003 u/s 153A PS NARELA DELHI.

AND

FIR No. 166/2006 u/s 153A and 295A PS NARELA DELHI.

सुनवाई की तारीख़: ०७ जनवरी. २०१७

महामहिम बैजल जी!

कृपया मेरे पिछले पत्र का (लिंक http://www.aryavrt.com/muj16w52b-das-prtinidhi ) का संदर्भ लें.

1.  एलिजाबेथ ने आप का मनोनयन यह सुनिश्चित करने के लिए कराया है कि दिल्ली प्रदेश के उपनिवेशवासी उपनिवेश, चर्च, बपतिस्मा, मस्जिद, अज़ान, खुत्बे, जिहाद आदि का विरोध न करने पायें. जो भी उपरोक्त अपराध करे, उसे आप फांसी दिलवा दें. (भारतीय दंड संहिता की धारा १२१). मकोका अथवा रासुका में बंद करवा दें. (दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९६). उसकी रीढ़ की हड्डी तोड़वा दें. उसको जेल में विष दिलवाएं. कैंसर की बीमारी होते हुए भी उसकी जमानत न होने दें. (साध्वी प्रज्ञा) उसके मुंह में गाय का मांस ठुसवायें. ( जगतगुरु एवं कुलपति स्वामी अमृतानंद देवतीर्थ). उसका पैर तोड़वा दें. (कर्नल पुरोहित). गो हत्यारे को करोड़ों ₹, घर, आश्रितों को सरकारी नौकरी दें. (अखलाक). जिहादियों को पुलिस सुरक्षा में ईशनिंदा और खुत्बे की सुविधा, विभिन्न अनुदान आदि दें और जिहादियों से (डाक्टर नारंग जैसे) काफिरों को कत्ल कराएँ.

2.  उपरोक्त कथन का प्रमाण यह है कि NIA के जज ने निर्णय दिया, “साध्वी प्रज्ञा सिंह इस बात से इनकार नहीं कर सकती कि धमाकों के लिए इस्तेमाल बाइक से उनका संबन्ध है। कोर्ट ने कहा कि गवाहों के बयान के मुताबिक भोपाल में हुई मीटिंग में साध्वी मौजूद थीं। उस मीटिंग में औरंगाबाद और मालेगांव में बढ़ रही जिहादी गतिविधियों और उन्हें रोकने पर चर्चा हुई। यहाँ तक कि मीटिंग में मौजूद सभी लोगों ने देश में तत्कालीन सरकार को गिराकर अपनी स्वतन्त्र सरकार बनाने की बात भी की थी।

3.  आपके पूर्ववर्ती राज्यपालों ने मेरे विरुद्ध ४८ अभियोग चलवाए. उपरोक्त २ आज भी लम्बित हैं, लेकिन कोई उप राज्यपाल, बारम्बार आग्रह के बाद भी, मेरे आरोप वापस न ले सका.

4.  आप एलिजाबेथ के आतंक की साया में, आत्मघाती गुप्तचरों से घिरे हुए, पद, प्रभुता और पेट के लोभ में, दासता करने के लिए विवश हैं.

5.  सत्ता के हस्तान्तरण का लोभ देकर माउंटबेटन ने उपनिवेशवासियों से वैदिक सनातन संस्कृति की आधार शिलाओं गुरुकुल, गौ, गंगा और गायत्री को नष्ट करा दिया है| इतिहास साक्षी है वे ही संस्कृतियां जीवित बचीं, जिन्होंने भारत में शरण लिया. इन आतताई संस्कृतियों को भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) द्वारा संरक्षण देकर इंडिया में रोका गया है. इनसे अपनी मुक्ति हेतु मार्ग ढूंढिए.

6.  महामहिम जी! आप विवश कर दिए गए हैं. यह संस्कृतियों का युद्ध है. इसे आप नहीं लड़ सकते. केवल मुझे गुप्त सहयोग दे सकते हैं.

7.  आर्यावर्त सरकार के मुख्यालय की समस्त सडकों एवं गलियों पर जानबूझ कर अतिक्रमण कराया गया है. जिनका पटवारी द्वारा दिए गए नक्शे के विवरण के लिए नीचे की लिंक क्लिक करें:-

http://www.aryavrt.com/kl_gali-bdo_lg-16d08

8.  पिछले ४५ अभियोगों में मेरे विरूद्ध जज कुछ कर नहीं पाए हैं और न ही गलियों के अतिक्रमण को ही एलिजाबेथ उचित ठहरा पायेगी. इस लड़ाई में आप लोग अपना ही अहित कर रहे हैं.

9.  कृपया अभियोगों को वापस लेकर और अतिक्रमण को हटवा कर मानवजाति की रक्षा करने में मेरा सहयोग करें. अप्रति.

 http://www.aryavrt.com/muj17w01ay-lg-fir

Registration Number is : PMOPG/E/2017/0010795


Comments