Muj14W05A Yaun Aparadhi



मुजहना MUJAHANA weekly

77, Khera Khurd, Delhi-110082 (BHARAT)

R.N.I. REGISTRATION No.68496/97

Price this issue: Rs. 2/- Yearly Rs. 100/-. Life member Rs. 1000/-.

 


Mujahana• Bilingual-Weekly• Volume 19 Year 19 ISSUE 05A, Jan. 03- Jan. 09, 2014. This issue is Muj14W05A Yaun Aparadhi


Published every Thursday for Manav Raksha Sangh, Registered Trust No 35091 by Ayodhya Prasad Tripathi, at 77, Khera Khurd, Delhi – 110082. ``Phone +91-9868324025.; +(91) 9152579041 . Printed by Ayodhya Prasad Tripathi at 77 Khera Khurd, Delhi-110082. Editor: Ayodhya Prasad Tripathi. Processed on Desk Top Publishing & CYCLOSTYLED by Ayodhya Prasad Tripathi.  Email: aryavrt39@gmail.com; Web site: http://aaryavrt.blogspot.com and http://www.aryavrt.com



Muj14W05A Yaun Aparadhi

जेहोवा और अल्लाह यौन अपराधी क्यों नहीं?


जयपुर। राजस्थान में एक वरिष्ठ आइएएस अधिकारी के खिलाफ सिविल सेवा की तैयारी कर रही 23 वर्षीय युवती से रेप करने का मामला दर्ज किया गया है। 

http://aajtak.intoday.in/story/in-the-state-of-rape-1-752723.html

मध्य प्रदेश में यौन उत्पीड़न के घेरे में रसूखदार

यह शख्स आसाराम बापू नहीं है. ये हैं महर्षि महेश योगी वैदिक यूनिवर्सिटी के चांसलर 53 वर्षीय गिरीश वर्मा.

ब्रह्मïकुमार के.एम. प्रसाद ने बलात्कार किया.

निफ्ट के ज्वाइंट डायरेक्टर वसंत कोठारी

मूसा (बाइबल, याशयाह १३:१६) व मुहम्मद (कुरान २३:६) ने धरती की सभी नारियां मुसलमानों और ईसाइयों को सौंप रखी हैं| अतएव पहले सोनिया के ईसाइयत और हामिद के इस्लाम के विरुद्ध कार्यवाही करें| बाइबल और कुरान मूसा व मुहम्मद के तथाकथित ईश्वरीय आदेश हैं, जिनके विरुद्ध कोई जज सुनवाई क्यों नहीं कर सकता? (एआईआर, कलकत्ता, १९८५, प१०४). लव जिहाद की, तीन तलाक की और बेटी से बलात्कार की छूट क्यों?

आर्यावर्त सरकार जानना चाहती है कि क्यों एक नारी के यौनशोषण के कारण तथाकथित हिंदू पर अभियोग चलता है और धरती की सभी नारियों के बलात्कारी ईसाइयत और इस्लाम पर ऊँगली ही नहीं उठती?

मल ही बल है और वीर्य ही जीवन| वीर्यहीन व्यक्ति का मानवाधिकार नहीं होता| वीर्य हीन मनुष्य रोगग्रसित चलता फिरता मुर्दा और दास है| वीर्यहीन व्यक्ति अपनी इन्द्रियों और शक्तिवान का दास ही बन सकता है, स्वतन्त्र नहीं रह सकता| ईश्वर ने, मनुष्य को जन्म के साथ ही वीर्य के रुप में अपनी सारी शक्ति दी है। वीर्य अष्ट सिद्धियों और नौ निधियों का दाता, स्वतंत्रता, परमानंद, आरोग्य, ओज, तेज और स्मृति का जनक है| मूसा और मुहम्मद खतना द्वारा मानवमात्र के ईश्वरीय शक्ति को छीन कर उसे दास बनाने के अपराधी हैं|

वैदिक सनातन धर्म वीर्य को साक्षात ईश्वर का पर्याय मानता है| इसके किसी भी तरह के क्षरण को घृणित पाप मानता है| वैदिक सनातन धर्म की मान्यता है कि विद्या मात्र ब्रह्मविद्या है और ज्ञान मात्र ब्रह्मज्ञान| वीर्यरक्षा के बिना ब्रह्मज्ञान सम्भव नहीं| जो कोई वीर्यक्षरण करता या कराता है, मानवजाति का भयानक शत्रु है| गुरुकुलों में वीर्यरक्षा की शिक्षा निःशुल्क दी जाती थी, जिसे मानवमात्र को भेंड़ बनाने के लिए मैकाले ने मिटा दिया|

खतने पर अपने शोध के पश्चात १८९१ में प्रकाशित अपने ऐतिहासिक पुस्तक में चिकित्सक पीटर चार्ल्स रेमोंदिनो ने लिखा है कि पराजित शत्रु को जीवन भर पुंसत्वहीन कर (वीर्यहीन कर) दास के रूप में उपयोग करने के लिए शिश्न के अन्गोच्छेदन या अंडकोष निकाल कर बधिया करने (जैसा कि किसान सांड़ के साथ करता है) से खतना करना कम घातक है| पीटर जी यह बताना भूल गए कि दास बनाने के लिए खतने से भी कम घातक वेश्यावृत्ति को संरक्षण देना है| मूसा से लेकर सोनिया तक मानवमात्र को वीर्यहीन कर रहे हैं|

http://en.wikipedia.org/wiki/Peter_Charles_Remondino

वैदिक सनातन संस्कृति में बलात्कार और यौनशोषण को मजहबी मान्यता प्राप्त नहीं है| इसके विपरीत अब्रह्मी संस्कृतियों में बलात्कार और यौनशोषण जिहाद और मिशन के अविभाज्य कृत्य हैं| ईसाइयत और इस्लाम के विरुद्ध कार्यवाही न करके मात्र हिंदुओं की छिटपुट घटनाओं पर तूफ़ान खड़ा करने का कारण वैदिक सनातन संस्कृति को बदनाम करना है| जो लोकसेवक और मीडियाकर्मी ऐसा कर रहे हैं, मानवजाति के भयानक शत्रु हैं|

ब्रह्म ज्ञान और वीर्यरक्षा की निःशुल्क शिक्षा गुरुकुलों, जिसे मैकाले ने मिटा दिया, में दी जाती है| गुरुकुल मनुष्य को वीर्यवान और स्वामी बनाते हैं| अतएव दास बनाने वाले मैकाले के महंगे यौनशिक्षा के स्कूल, जो मानव को नपुंसक और बलात्कार के शिक्षा केंद्र मकतब और मस्जिद, जो बलात्कारी बनाते हैं, को समाप्त किया जाना मानव हित में आवश्यक है| इनके स्थान पर हर गांव और शहर में समाज के सहयोग से गुरुकुल चलाए जाने चाहिए, जहाँ भावी पीढ़ी को संस्कारित वीर्यवान बनाया जाये|

आसुरी शक्तियां सदा से बलवती रही हैं| अब्रह्मी संस्कृतियां स्वयं अपने अनुयायियों की ही शत्रु हैं| वीर्यहीन और बुद्धिहीन होने के कारण पीड़ित मानवता का अस्तित्व खतरे में है| क्या अब्रह्मी संस्कृतियों के अनुयायियों को नहीं लगता कि वे पैगंबरों मूसा, ईसा और मुहम्मद द्वारा मूर्ख बनाये गए और अब शासकों और पुरोहितों द्वारा बनते हैं? {(बाइबल, उत्पत्ति २:१७) और (कुरान २:३५)}.

ईसा के बाप का पता नहीं है| फिर भी ईसा जेहोवा का एकलौता पुत्र है! खुद को शूली पर चढने से बचा न पाया फिरभी सबका मुक्ति दाता है?

गुरुकुलों के मिटने का परिणाम यह हुआ कि जो उपलब्धि इस्लाम ई० स० ७१२ से ई० स० १८३५ तक अर्जित न कर सका, उससे अधिक ईसाइयत ने मात्र ई० स० १८३५ से ई० स० १९०५ के बीच अर्जित कर लिया| सोनिया वैदिक सनातन संस्कृति को मिटाने की दौड़ में सबसे आगे है| मात्र ३ वर्षों की अवधि में सोनिया ने, नागरिकों को वीर्यहीन करने के लिये, वैदिक सनातन संस्कृति की जड़ें ही नष्ट कर दी हैं|

बचना है तो गुरुकुलों को पुनर्जीवित कीजिए| किसान को सांड़ को दास बना कर खेती के योग्य बैल बनाने के लिए सांड़ का बंध्याकरण करना पड़ता है| लेकिन लूट और यौनाचार के लोभ में अब्रह्मी संस्कृतियों के अनुयायी यहूदी और मुसलमान मजहब की आड़ में स्वेच्छा से गाजे बाजे के साथ वीर्यहीन बनने के लिए खतना कराते हैं और अपने ब्रह्मतेज को गवां देते हैं| जीवन भर रोगी, अशक्त और दास बन कर जीते हैं| ईसाई इन्द्र की भांति मेनकाओं के प्रयोग द्वारा वीर्यहीन कर अपने अनुयायियों को दास बनाते हैं| यहाँ विश्वामित्र और मेनका का प्रसंग प्रासंगिक है| इंद्र ने वीर्यवान विश्वामित्र को पराजित करने के लिए मेनका का उपयोग किया| मूसा (बाइबल, याशयाह १३:१६) व मुहम्मद (कुरान २३:६) ने तो इंद्र की भांति धरती की सभी नारियां मुसलमानों और ईसाइयों को सौंप रखी हैं|. इतना ही नहीं ईसा ने बेटी (बाइबल, , कोरिन्थिंस ७:३६) से विवाह की छूट दी है| अल्लाह ने मुहम्मद का निकाह उसकी पुत्रवधू जैनब (कुरान, ३३:३७-३८) से किया और ५२ वर्ष के आयु में ६ वर्ष की आयशा से उसका निकाह किया| आप की कन्या को बिना विवाह बच्चे पैदा करने के अधिकार का संयुक्त राष्ट्र संघ कानून पहले ही बना चुका है| [मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा| अनुच्छेद २५(२)]. विवाह या बिना विवाह सभी जच्चे-बच्चे को समान सामाजिक सुरक्षा प्रदान होगी|”]. लव जेहाद, बेटी व पुत्रवधू से विवाह, सहजीवन व समलैंगिक मैथुन और सगोत्रीय विवाह को कानूनी मान्यता मिल गई है| बारमें दारू पीने वाली बालाओं का सम्मान हो रहा है! विवाह सम्बन्ध अब बेमानी हो चुके हैं| जजों ने सहजीवन (बिना विवाह यौन सम्बन्ध) और सगोत्रीय विवाह (भाई-बहन यौन सम्बन्ध) को कानूनी मान्यता दे दी है| सोनिया के सत्ता में आने के बाद सन २००५ से तीन प्रदेशों केरल, गुजरात और राजस्थान में स्कूलों में यौन शिक्षा लागू हो गई है| शीघ्र ही अमेरिका की भांति इंडिया के विद्यालयों में गर्भ निरोधक गोलियां बांटी जाएँगी| जजों की कृपा से आप की कन्याएं मदिरालयों में दारू पीने और नाच घरों में नाचने के लिए स्वतन्त्र हैं| उज्ज्वला - नारायण दत्त तिवारी और आरुषि - हेमराज में जजों के फैसलों ने आने वाले समाज की दिशा निर्धारित कर दी है| आप वैश्यावृत्ति से अपनी नारियों को बचा न पाएंगे|

अमेरिका आज भी है, लेकिन लाल भारतीय और उनकी माया संस्कृति मिट गई| सोनिया वैदिक सनातन संस्कृति मिटाएगी, आप का मांस खाएगी और लहू पीयेगी| (बाइबल, यूहन्ना ६:५३).  इंडिया तो रहेगा| लेकिन वैदिक सनातन संस्कृति और भारत के मूल निवासी न रहेंगे| यदि रहेंगे भी तो दास बन कर| बचना हो तो अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार को सहयोग दीजिये| यह युद्ध मात्र हम लड़ सकते हैं| ईसाइयत और इस्लाम को धरती पर रहने का कोई अधिकार नहीं है| चर्चों व मस्जिदों से ईसाई व मुसलमान को कत्ल करने की शिक्षा दी जाती है| अतएव चर्च व मस्जिद नष्ट करना भारतीय दंड संहिता के धारा १०२ के अधीन सबका कानूनी अधिकार है| हमने बाबरी ढांचा गिराया है| जिन लोगों को अपना जीवन, अपनी आजादी और अपनी नारियों का और अपना सम्मान चाहिए, वे हमे सहयोग दें तो हम ईसाइयत और इस्लाम को नहीं रहने देंगे|

मैं इस लेख का परिणाम जनता हूँ| हमारे ९ अधिकारी ईसाइयत और इस्लाम का विरोध करने के कारण २००८ से जेलों में बंद हैं| मैं स्वयं मालेगांव बम कांड का अभियुक्त हूँ| मुझे मेरे बेटों के हाथों ही कत्ल कराने के लिए मुझे जेल नहीं भेजा गया है| लेकिन फिर भी इसलिए लिख रहा हूँ कि मानवजाति आतताई संस्कृतियों ईसाइयत और इस्लाम से अब भी सावधान हो जाये| मुझे मरने से भय नहीं है, फिरभी मानवता के रक्षा की चिंता है|

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी, फोन ९१५२५७९०४१

Registration Number is : DARPG/E/2014/00529

२६ जनवरी. २०१४य http://pgportal.gov.in/

 

ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Jan 26, 2014, 10:51 AM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Jan 26, 2014, 10:52 AM
Comments