Muj13W39 Gen VKSingh

पूर्व थल सेनाध्यक्ष वीके सिंह

राज्य की स्थापना का उद्देश्य नागरिक के जान माल की रक्षा करना है| इसके विपरीत प्रजातंत्र में सोनिया भारतीय संविधान के अनुच्छेद २९(१) के अधीन नागरिक को कत्ल करने वाली संस्कृतियों और भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३९(ग) के अधीन किसी नागरिक के सम्पत्ति और पूँजी रखने के अधिकार छीनने वालों का परिरक्षण, संरक्षण और प्रतिरक्षण कराने के लिये क्रमशः भारतीय संविधान के अनुच्छेदों ६० व १५९ के अधीन शपथ दिला कर राष्ट्रपति और राज्यपाल को मनोनीत करती है| अल्पसंख्यक व लोकसेवक नागरिकों को कत्ल करते और लूटते हैं और राष्ट्रपति और राज्यपाल दंड प्रक्रिया संहिता की धाराओं १९६ व १९७ के अधीन दोनों को संरक्षण प्रदान करने के लिये विवश हैं| सोनिया के रोम राज्य में स्वयं राष्ट्रपति, राज्यपाल और लोकसेवक भी सोनिया द्वारा भयादोहित हो रहे हैं| यह लोग दया के पात्र हैं| इनके पास कोई विकल्प भी नहीं है| या तो वे स्वयं अपनी मौत स्वीकार करें, अपनी नारियों का अपनी आखों के सामने बलात्कार कराएँ, शासकों (सोनिया) की दासता स्वीकार करें अपनी संस्कृति मिटायें अथवा पद की शपथ न लें| इनके अपराध परिस्थितिजन्य हैं, जिनके लिए भारतीय संविधान उत्तरदायी है| ऐसे भारतीय संविधान को रद्दी की टोकरी में डालना अपरिहार्य है| हम अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार के लोग आतताई ईसाइयत और इस्लाम को इंडिया में रखने वाले भारतीय संविधान को रद्द करने की मुहिम में लगे हैं| सोनिया के देश पर आधिपत्य को स्वीकार करते ही यही लोग ही नहीं, सारी मानव जाति ईसा की भेंड़ हैं||

आइये षड्यंत्र का विश्लेषण करें|

वैदिक सनातन धर्म किसी भी अन्य धर्म के लिए कोई निहित दुश्मनी के बिना एक ऐसी संस्कृति है. जो केवल वसुधैव कुटुम्बकम के बारे में बात करती है. इसके आचार, मूल्य और नैतिकता सांप्रदायिक नहीं - सार्वभौमिक हैं| वे पूरी मानव जाति के लिए हर समय लागू हैं| इसका दर्शन मलेशिया, इंडोनेशिया, फिलीपींस, थाईलैंड, म्यांमार, जापान, चीन, अफगानिस्तान और कोरिया में फैल गया था| एक बार अमेरिका में चीन के राजदूत ने कहा, “भारत एक भी सिपाही बाहर भेजे बिना तमाम देशों पर विजय प्राप्त करने वाला दुनिया में एकमात्र देश है|"

पहला छल अल्पसंख्यक शब्द ही है| जहां हिंदुओं ने सभी देशों ओर मजहबों के पीडितों को शरण दिया, वहीं अंग्रेजों की कांग्रेस ने भारतीय संविधान का संकलन कर जिन विश्व की सर्वाधिक आबादी ईसाइयत और दूसरी सर्वाधिक आबादी इस्लाम के लोगों को अल्पसंख्यक घोषित कर वैदिक सनातन धर्म को मिटाने के लिए इंडिया में रोका है, उन्होंने जहां भी आक्रमण या घुसपैठ की, वहाँ की मूल संस्कृति और मूल निवासियों को नष्ट कर दिया| लक्ष्य प्राप्ति में भले ही शताब्दियाँ लग जाएँ, ईसाइयत और इस्लाम आज तक विफल नहीं हुए| अमेरिका आज भी है, लेकिन लाल भारतीय और उनकी माया संस्कृति मिट गई| सोनिया वैदिक सनातन संस्कृति मिटाएगी, जजों और लोकसेवकों का मांस खाएगी और लहू पीयेगी| (बाइबल, यूहन्ना ६:५३).  इंडिया तो रहेगा| लेकिन वैदिक सनातन संस्कृति और भारत के मूल निवासी न रहेंगे|

आज सत्ता के शिखर पर वे ही लोग हैं, जिन्होंने देश के टुकड़े किये और कराए| वैदिक पंथियों के पूर्वजों का नरसंहार किया, नंगा कर माँ, बहन व बेटियों का जुलूस निकाला, उनको बाजारों में बेचा और बलात्कार किया; उन्हें इंडिया में मात्र रखा ही नहीं गया है, बल्कि उन्हें वे विशेष सुविधाएँ दी गई हैं, जो स्वयं वैदिक पंथियों को प्राप्त नहीं हैं|

भारत में सेना का मनोबल तोड़ने के लिए, १९४७ से ही षड्यंत्र जारी है| १९४७ में इंडियन सेना पाकिस्तानियों को पराजित कर रही थी| सेना वापस बुला ली गई| सैनिक हथियार और परेड के स्थान पर जूते बनाने लगे| परिणाम १९६२ में चीन के हाथों पराजय के रूप में आया| १९६५ में जीती हुई धरती के साथ हम प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को गवां बैठे| १९७१ में पाकिस्तान के ९३ हजार युद्ध बंदी छोड़ दिए गए लेकिन भारत के लगभग ५० सैनिक वापस नहीं लिये गए| कारगिल युद्ध में पाकिस्तानी सैनिकों को वापस जाने दिया गया| एडमिरल विष्णु भागवत के बाद अब जनरल वीके सिंह का नम्बर लगा है|

जनरल वीके सिंह को ज्ञात होना चाहिए कि नमो सहित जो भी भारतीय संविधान की शपथ लेता है – स्वयं अपना ही शत्रु है|

ईसाइयत और इस्लाम में सहअस्तित्व के लिये कोई स्थान नहीं है| जनरल वीके सिंह से हमें बहुत सारी अपेक्षाएं हैं| वे तभी पूरी हो सकती हैं जब वे ईसाइयत और इस्लाम मिटायें|

 

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी, फोन ९१५२५७९०४१

Your Request/Grievance Registration Number is : PRSEC/E/2013/15500

http://helpline.rb.nic.in/

This is a public document. Anyone can view the status from the web site by typing the above Request/Grievance Registration Number. There is no pass-word.

 

ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Sep 28, 2013, 4:40 AM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Sep 28, 2013, 4:42 AM
Comments