Muj12W44 Abrahmic Sanskritiyan

पत्रिका के अंश... पूरी पत्रिका संलग्न 

दया के पात्र सोनिया के मातहत राज्यपालों ने संविधान के अ० १५९ के अधीन नागरिकों से सम्पत्ति व पूँजी छीनने की व न्यायपालिका ने संविधान और कानूनों को बनाये रखने की शपथ ली है| लोकसेवकों को राज्य नागरिकों की सम्पत्ति व पूँजी लूटने के लिए नियुक्त करते हैं| लोकसेवक लूटें तो जेल जाएँ और न लूटें तो जेल जाएँ| इन के पास कोई विकल्प नहीं है| या तो वे स्वयं अपनी मौत स्वीकार करें, अपनी नारियों का अपनी आखों के सामने बलात्कार कराएँ, शासकों सोनिया व हामिद की दासता स्वीकार करें व अपनी संस्कृति मिटायें अथवा नौकरी छोड़ दें|

हम पुत्रवधू (कुरान, ३३:३७-३८) से निकाह कराने वाले, काफ़िर नारी के बलात्कार के समर्थक (कुरान २३:६) शांति के शत्रु (कुरान २:२१६), खूनी (कुरआन ८:१७) व लुटेरे (कुरान ८:१, ४१ व ६९) अल्लाह को ईश्वर मामने के लिए तैयार नहीं हैं| बताएं कि मस्जिद तोड़ना अपराध कैसे है?

हम आर्यावर्त सरकार केबागी जानना चाहते हैं कि सबको अपने अधीन कराने वाला, (बाइबल, लूका १९:२७), मनुष्य के पुत्र का मांस खाने व लहू पीने की शिक्षा देने वाला (बाइबल, यूहन्ना ६:५३), तलवार चलवाने वाला (बाइबल, मत्ती १०:३४), धरती पर आग लगवाने वाला (बाइबल, लूका १२:४९), परिवार में शत्रुता पैदा कराने वाला {(बाइबल, मत्ती १०:३५-३६) व (बाइबल, लूका १२:५१-५३)}, बेटी से विवाह करानेवाला (बाइबल, , कोरिन्थिंस ७:३६) व मनुष्य को भेंड़ बनाने वाला ईशा ईश्वर का पुत्र कैसे है?

इसी प्रकार पूजा स्थल तोड़वाने वाला, (बाइबल, व्यवस्था विवरण १२:१-३), लूट व दूसरे के नारी के अपहरण की शिक्षा देने वाला (बाइबल, व्यवस्था विवरण २०:१३-१४), दुधमुहों की हत्या कराने वाला और नारियों का उनके पुरूषों के आँखों के सामने बलात्कार कराने वाला जेहोवा ईश्वर कैसे है? (बाइबल, याशयाह १३:१६)

काबा हमारा ज्योतिर्लिंग है| (कुरान, बनी इस्राएल १७:८१ व कुरान, सूरह अल-अम्बिया २१:५८) अजान ईशनिंदा है| http://www|aryavrt|com/fatwa  मस्जिद सेनावास हैं और कुरान सारी दुनिया में फुंक रही है| जिसकी काबा का नामांकन ही कामेश्वर महादेव मंदिर परिसर की ३५९ मूर्तियों को तोड़ने के बाद किया गया है, उन्हें बाबरी पर शोर मचाने का अधिकार भारतीय संविधान ने दिया है| वोट द्वारा भी इंडिया के नागरिक, सम्पत्ति व पूँजी का अधिकार नहीं पा सकते| हम इस मानव मानवघाती भारतीय संविधान को निरस्त करना चाहते हैं|

मस्जिदों से ईमामों के खुतबों को ध्यानपूर्वक सुनिए|

ईमामों को कुरान के आदेशों को तोड़ मरोड़ कर पेश करने की भी आवश्यकता नहीं| भारतीय संविधान के अनुच्छेद २७ का उल्लंघन कर आप के कर से प्राप्त १० अरब रुपयों में से वेतन लेकर ईमाम बदले में कुरान के सूरह अनफाल (८) की सभी मुसलमानों को सीधी शिक्षा देते हैं| (एआईआर, एससी, १९९३, प० २०८६). अजान द्वारा ईमाम स्पष्ट रूप से गैर-मुसलमानों को चेतावनी देते हैं कि मात्र अल्लाह की पूजा हो सकती है| अल्लाह के आदेश से ईमाम कहता है, "काफ़िर मुसलमानों के खुले दुश्मन हैं|" (कुरान ४:१०१). कुछ खुतबे कुरान के सूरह अनफाल (८) में स्पष्ट दिए गए हैं| अल्लाह निश्चय रूप से कहता है कि उसने मुसलमानों को जिहाद के लिए पैदा किया है, "युद्ध (जिहाद) में लूटा हुआ माल, जिसमे नारियां भी शामिल हैं, अल्लाह और मुहम्मद का है|" (कुरान ८:१, ४१ व ६९). "जान लो जो भी माल लूट कर लाओ, उसका ८०% लूटने वाले का है| शेष २०% अल्लाह, मुहम्मद, ईमाम, खलीफा, मौलवी, राहगीर, यतीम, फकीर, जरूरतमंद आदि का है|" (कुरआन ८:४१). लूट ही अल्लाह यानी सत्य है| लूट में विश्वास करने वाले विश्वासी हैं| "गैर-मुसलमानों के गले काटो, उनके हर जोड़ पर वार करो और उनको असहाय कर दो| क्यों कि वे अल्लाह के विरोधी हैं," (कुरआन ८:१२). "जो भी अल्लाह और मुहम्मद के आदेशों का उल्लंघन करता है, वह जान ले कि अल्लाह बदला लेने में अत्यंत कठोर है|" (कुरआन ८:१३). "काफ़िर के लिए आग का दंड है|" (कुरआन ८:१४). "जब काफिरों से लड़ो तो पीठ न दिखाओ|" (कुरआन ८:१५). "तुमने नहीं कत्ल किया, बल्कि अल्लाह ने कत्ल किया|" (कुरआन ८:१७). "मुसलमानों को लड़ाई पर उभारो|" (कुरआन ८:६५). तब तक बंधक न बनाओ, जब तक कि धरती पर खून खराबा न कर लो| (कुरआन ८:६७). जो भी लूट का माल तुमने (मुसलमानों ने) प्राप्त किया है, उसे परम पवित्र मान कर खाओ| (कुरआन ८:६९). सत्य स्पष्ट है| काफिरों को आतंकित करने व समाप्त करने के लिए मुसलमानों में जोश पैदा करते हुए अल्लाह कहता है, “जब तुम काफिरों से लड़ो, तो उनको इस तरह परास्त करो कि आने वाले समय में उन्हें चेतावनी मिले| काफ़िर यह जान लें कि वे बच नहीं सकते| (कुरआन ८:६०). जो मुसलमान नहीं वह काफ़िर है| कत्ल से कुफ्र बुरा है (कुरान २:१९१). इस्लाम है तो काफ़िर कि मौत पक्की|


ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Oct 25, 2012, 7:26 AM
Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Oct 25, 2012, 7:28 AM
Comments