Muj11W49 Babri Special

बाबरी विशेषांक!

Your Request/Grievance Registration Number is : PRSEC/E/2011/19630

Dated: Monday, December 05, 2011y

Web site: http://helpline.rb.nic.in/

This is a public document. Any one can view the status from the web site by typing the above Registration Number. There is no pass-word.

contact us on 919868324025/9696305857

मै डेनिअल वेबस्टर के कथन से पूरी तरह सहमत हूँहमको मिटाने के लिए किसी भी राष्ट्र के पास शक्ति नहीं है. हमारा विनाश, यदि आएगा तो वह दूसरे प्रकार से आएगा. वह होगा सरकार के षड्यंत्र के प्रति जनता की लापरवाही.... मुझे भय है कि जनता अपने उन लोकसेवकों पर अत्यधिक विश्वास करेगी, जिन्हें स्वयं अपने ही सर्वनाश के लिए (सोनिया द्वारा) हथियार बना लिया गया है.

भारतीय संविधान का अनुच्छेद(१) जाति हिंसक, बलात्कारी व दासता पोषक है और आप के वैदिक सनातन धर्म, पूजा स्थल, जीवन व सम्पत्ति से आप को बेदखल कर चुका है.

अल्पसंख्यक-वर्गों के हितों का संरक्षण- "२९(१)- भारत के राज्यक्षेत्र या उसके किसी भाग के निवासी नागरिकों के किसी अनुभाग को, जिसकी अपनी विशेष भाषा, लिपि या संस्कृति है, उसे बनाये रखने का अधिकार होगा." भारतीय संविधान भाग ३ मौलिक अधिकार.

और अनुच्छेद ३९(ग) भ्रष्टाचारी है. देखें:-

"३९(ग)- आर्थिक व्यवस्था इस प्रकार चले कि जिससे धन व उत्पादन के साधनों का सर्वसाधारण के लिए अहितकारी संकेन्द्रण न हो;" भारतीय संविधान के नीति निदेशक तत्व. अनुच्छेद ३९(ग).

भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३१ प्रदत्त सम्पत्ति के जिस अधिकार को अँगरेज़ और संविधान सभाके लोग नछीन पाए, उसे भ्रष्ट सांसदों जजों ने मिलकर लूट लिया और अब तो इस अनुच्छेद को भारतीय संविधान से ही मिटा दिया गया है. इसे कोई भ्रष्टाचार नहीं मानता! (ए आई आर १९५१ एस सी ४५८)

इंडिया में लोकतंत्र नहीं सोनिया केलिए, सोनिया द्वारा चुनागया सोनियातंत्र है. सर्वविदित है कि प्रेसिडेंट प्रतिभा का मनोनयन सोनिया ने किया. प्रधानमंत्री, सभी राज्यपाल व सभी कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्य मंत्री सोनिया द्वारा मनोनीत हैं. 

यदि ‘मात्र अल्लाह की पूजा हो सकती है’, जिसे अजान द्वारा मस्जिदों से ईमाम चिल्लाता है, तो सर्व धर्म समान, अनेकता में एकता, साम्प्रदायिक सद्भाव और पंथनिरपेक्षता (सेकुलरिजम) कहाँ है? यदि ईसा ही राजा हो सकता है, तो देश में लोकतंत्र कहाँ है? यदि स्वयं भारतीय संविधान के अनुच्छेद ६(ब)(||) के अनुसार इंडिया आज भी उपनिवेश (डोमिनियन) और राष्ट्रकुल का सदस्य है, तो इडिया स्वतन्त्र कैसे है?

जज, प्रेसिडेंट, प्रधानमंत्री और राज्यपाल सोनिया द्वारा मनोनीत मातहत व उपकरण है. परभक्षी संविधान का अनुच्छेद २९(१) किसी नागरिक को जीने का अधिकार नहीं देता और ३९(ग) नागरिक को सम्पत्ति या पूँजी का अधिकार ही नहीं देता. भारतीय संविधान को कोई हत्यारों का संरक्षक, भ्रष्टाचारी व आतंकवादी नहीं मानता. जज व नागरिक दंड प्रक्रिया संहिता की धाराओं १९६ व १९७ के अधीन, सोनिया के मनोनीत, राज्यपालों द्वारा शासित हैं. अहिंसा, सांप्रदायिक एकता और शांति प्रक्रिया की आड़ में ईसाइयत व इस्लाम मिशन व जिहाद की हठधर्मिता के बल पर वैदिक संस्कृति को मिटा रहे हैं. वे हठधर्मी सिद्धांत हैं, "परन्तु मेरे उन शत्रुओं को जो नहीं चाहते कि मै उन पर राज्य करूं, यहाँ लाओ और मेरे सामने घात करो." (बाइबल, लूका १९:२७) और "और तुम उनसे (काफिरों से) लड़ो यहाँ तक कि फितना (अल्लाह के अतिरिक्त अन्य देवता की उपासना)  बाकी न रहे और दीन (मजहब) पूरा का पूरा (यानी सारी दुनियां में) अल्लाह के लिए हो जाये." (कुरान, सूरह अल अनफाल ८:३९). स्पष्टतः वैदिक सनातन धर्म मिटाना दोनों का घोषित कार्यक्रम है. हमारे वैदिक सनातन धर्म व ईश्वर का अपमान करने वाले हर मुसलमान और ईसाई को दंप्रसं की धारा १९६ द्वारा संरक्षण प्राप्त है, लेकिन अपने प्राणों की रक्षा के लिए मांग करने से भारतीय दंड संहिता की धाराओं १५३ व २९५ के अधीन अभियोग चलाए जाते हैं.

ईसाइयत और इस्लाम में आस्था व्यक्त (दासता स्वीकार) करिये, चाहे जिस नारी का बलात्कार कीजिये. [(बाइबल, याशयाह १३:१६) व (कुरान २३:६)]  जिसकी भी चाहें सम्पत्ति लूटिये [(बाइबल, व्यवस्थाविवरण २०:१४) व (कुरान ८:१, ४१ व ६९)] और जिसे भी चाहिए अपनी तरह दास बनाइए. न बने तो कत्ल कर दीजिए. मूर्खों और दासों के वैश्यालय व मदिरालय नामक स्वर्ग का दरवाजा सदा के लिए खुला है. {(बाइबल, उत्पत्ति २:१७) व (कुरान २:३५)}. वहभी भारतीयसंविधान के अनुच्छेदों २९(१) व ३९(ग) और दंप्रसं कीधारा १९७ केसंरक्षण में

केवल उन्हें ही जीवित रहने का अधिकार है, जो ईसा का दास बने. (बाइबल, लूका १९:२७) और अल्लाह व उसके इस्लाम ने मानव जाति को दो हिस्सों मोमिन और काफ़िर में बाँट रखा है. धरती को भी दो हिस्सों दार उल हर्ब और दार उल इस्लाम में बाँट रखा है. (कुरान ८:३९) काफ़िर को कत्ल करना व दार उल हर्ब भारत को दार उल इस्लाम में बदलना मुसलमानों का मजहबी अधिकार है. (एआईआर, कलकत्ता, १९८५, प१०४). चुनाव द्वारा इनमें कोई परिवर्तन सम्भव नहीं.

वैदिक सनातन धर्म से ईसाइयत और इस्लाम दोनों ही आतंकित हैं और वैदिक पंथियों को मिटाना चाहते हैं.

यह संस्कृतियों का युद्ध है. ईसाइयत और इस्लाम आतताई संस्कृतियाँ हैं. मात्र वैदिक सनातन धर्म धोखे से हमले का विरोधी है. आत्मघाती मजहबों को मिटाना आप का वैदिक सनातन धर्म है. आइये ईसाइयत और इस्लाम मिटायें. 

ईश्वर उपासना की दासता नहीं थोपता. (गीता ७:२१) और न लूट के माल का स्वामी है. (मनुस्मृति ८:३०८). हम अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार के लोग वैदिक सनातन धर्म के अनुयायी हैं. मीडिया हम अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार के पीछे इसलिए पड़ी है कि उनकी आका सोनिया को वैदिक सनातन धर्म से खतरा है. इसके अतिरिक्त पोप इंडिया में आकर सोनिया को आदेश दे गया है कि २१ वीं में सोनिया को पूरे एशिया को ईसा की भेंड़ बनाना है. आइये प्रण लें कि हम मनुष्यता को तज कर भेंड़ नहीं बनेंगे.

आप अकेले यह युद्ध नहीं लड़ सकते. धरती पर एक से बढ़ कर एक त्रिकालदर्शीयोद्धाचिन्तकसमाज सुधारक और बुद्धिमान पैदा हुएलेकिनमालेगांव व अन्य मस्जिदों पर विष्फोट के अभियुक्त और जेल में निरुद्धजगतगुरु श्री अमृतानंद के अतिरिक्त किसी ने भी ईसाइयत और इस्लाम का विरोध नहीं किया. उनके आशीर्वाद से हम आप के लिए लड़ रहे हैं. क्या आप हम लोगों की सहायता करेंगेताकि सोनिया आप की आँखों के सामने आप की सम्पत्ति और घर न लूट ले, आप के दुधमुंहे आप की आँखों के सामने पटक कर न मार डाले जाएँ, नारियों का सोनिया बलात्कार न करा पाए और आप कत्ल न हों? (बाइबलयाशयाह १३:१६). 

मस्जिदों से ईमामों के खुतबों को ध्यान पूर्वक सुनिए. 

ईमामों को कुरान के आदेशों को तोड़ मरोड़ कर पेश करने की भी आवश्यकता नहीं. भारतीय संविधान के अनुच्छेद २७ का उल्लंघन कर आप के कर से प्राप्त १० अरब रुपयों में से वेतन लेकर ईमाम बदले में कुरान के सूरह अनफाल (८) की सभी मुसलमानों को सीधी शिक्षा देते हैं. (एआईआर, एससी, १९९३, प० २०८६). अजान द्वारा ईमाम स्पष्ट रूप से गैर-मुसलमानों को चेतावनी देते हैं कि मात्र अल्लाह की पूजा हो सकती है. अल्लाह के आदेश से ईमाम कहता है कि काफ़िर मुसलमानों के खुले दुश्मन हैं. (कुरान ४:१०१). खुतबे कुरान के सूरह अनफाल (८) में स्पष्ट दिए गए हैं. अल्लाह निश्चय रूप से कहता हैं कि उसने मुसलमानों को जिहाद के लिए पैदा किया है, युद्ध (जिहाद) में लूटा हुआ माल, जिसमे नारियां भी शामिल हैं, अल्लाह और मुहम्मद का है. (कुरान ८:१, ४१ व ६९). जान लो जो भी माल लूट कर लाओ, उसका ८०% लूटने वाले का है. शेष २०% अल्लाह, मुहम्मद, ईमाम, खलीफा, मौलवी, राहगीर, यतीम, फकीर, जरूरतमंद आदि का है. (कुरआन ८:४१). लूट ही अल्लाह यानी सत्य है. लूट में विश्वास करने वाले विश्वासी हैं. (कुरआन ८:२). विश्वासी लूट के लिए घर छोड़ देते हैं, (कुरआन ८:५). मै गैर-मुसलमानों में भय पैदा करता हूँ. तुम अंतिम गैर-मुसलमान को मिटा दो. (कुरआन ८:७). गैर-मुसलमानों के गले काटो, उनके हर जोड़ पर वार करो और उनको असहाय कर दो. क्यों कि वे अल्लाह के विरोधी हैं, (कुरआन ८:१२). जो भी अल्लाह और मुहम्मद के आदेशों का उल्लंघन करता है, वह जान ले कि अल्लाह बदला लेने में अत्यंत कठोर है. (कुरआन ८:१३). काफ़िर के लिए आग का दंड है. (कुरआन ८:१४). जब काफिरों से लड़ो तो पीठ न दिखाओ. (कुरआन ८:१५). तुमने नहीं कत्ल किया, बल्कि अल्लाह ने कत्ल किया. (कुरआन ८:१७). मुसलमानों को लड़ाई पर उभारो. (कुरआन ८:६५). तब तक बंधक न बनाओ, जब तक कि धरती पर खून खराबा न कर लो. (कुरआन ८:६७). जो भी लूट का माल तुमने (मुसलमानों ने) प्राप्त किया है, उसे परम पवित्र मान कर खाओ. (कुरआन ८:६९). सत्य स्पष्ट है. काफिरों को आतंकित करने व समाप्त करने के लिए मुसलमानों में जोश पैदा करते हुए अल्लाह कहता है, जब तुम काफिरों से लड़ो, तो उनको इस तरह परास्त करो कि आने वाले समय में उन्हें चेतावनी मिले. काफ़िर यह जान लें कि वे बच नहीं सकते. (कुरआन ८:६०)

काबा हमारा शिवमंदिर है, अजान ईश्वरनिन्दा है, मस्जिद सेनावास हैं और कुरान सारी दुनिया में फुंक रही है. क्यों रहे इस्लाम? आइये प्रण लें कि मस्जिद नहीं रहने देंगे| http://www.aryavrt.com/Home/minority-voting-right

हम वेदों की आज्ञानुसार धर्म राज्य स्थापित करेंगे और आप धर्म निरपेक्ष हैं. बिना धर्म रक्षा के मानवता की रक्षा सम्भव नहीं है.

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी


ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Dec 5, 2011, 9:46 AM
Comments