Muj11W42 Smvidhan

 

Registration Number PRSEC/E/2011/16629

Dated: Sunday, October 16, 2011y

Web site: http://helpline.rb.nic.in/

This is a public document. Any one can view the status from the web site by typing the above Registration Number. There is no pass-word.

contact us on 919868324025/9136748117

प्रकाशनार्थ

गिरफ्तारी येदियुरप्पा की


न मे स्तेनो जनपदे न कर्दर्यो न मद्यपो नानाहिताग्निर्नाविद्वान्न स्वैरी स्वैरिणी कुतो

छान्दोग्योपनिषद, पंचम प्रपाठक, एकादश खंड, पांचवां श्लोक

अर्थ: कैकेय देश के राजा अश्वपति ने कहा, मेरे राज्य में कोई चोर नहीं है, कंजूस नहीं, शराबी नहीं, ऐसा कोई गृहस्थ नहीं है, जो बिना यज्ञ किये भोजन करता हो, न ही अविद्वान है और न ही कोई व्यभिचारी है, फिर व्यभिचारी स्त्री कैसे होगी?

वैदिक राज्य में चोर, भिखारी और व्यभिचारी नहीं होते थे. स्वयं मैकाले ने २ फरवरी १८३५ को इस बात की पुष्टि की है. लेकिन भारत का संविधान ही चोर है. भारतीय संविधान को चोर कहना सोनिया के रोम राज्य के विरद्ध भारतीय दंड संहिता के धारा १५३ व २९५ के अंतर्गत अपराध है| इनका नियंत्रण दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९६ के अंतर्गत सोनिया के मनोनीत राज्यपालों के हाथ में है. ऐसा कहना संसद व विधानसभाओं के विशेषाधिकार का हनन भी है. जो भी इस सच्चाई को कहे या लिखेगा, उसे सोनिया दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९६ में जेल भेजवा देंगी. मुसलमान ईश निंदा में कत्ल करेगा. मै ४२ बार हवालात और जेल गया हूँ और हमारे १२ अधिकारी ईसाइयत और इस्लाम के विरोध के कारण बंद हैं. संविधान प्रमाण है,

भारतीय संविधान का अनुच्छेद(१) जाति हिंसक, बलात्कारी व दासता पोषक है और आप के जीवन व सम्पत्ति से आप को बेदखल कर चुका है.

अल्पसंख्यक-वर्गों के हितों का संरक्षण- "२९(१)- भारत के राज्यक्षेत्र या उसके किसी भाग के निवासी नागरिकों के किसी अनुभाग को, जिसकी अपनी विशेष भाषा, लिपि या संस्कृति है, उसे बनाये रखने का अधिकार होगा." भारतीय संविधान भाग ३ मौलिक अधिकार.

और अनुच्छेद ३९(ग) भ्रष्टाचारी है. देखें:-

"३९(ग)- आर्थिक व्यवस्था इस प्रकार चले कि जिससे धन व उत्पादन के साधनों का सर्वसाधारण के लिए अहितकारी संकेन्द्रण न हो;" भारतीय संविधान के नीति निदेशक तत्व. अनुच्छेद ३९(ग).

भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३१ प्रदत्त सम्पत्ति के जिस अधिकार को अँगरेज़ और संविधान सभा के लोग न छीन पाए, उसे भ्रष्ट सांसदों और जजों ने मिल कर लूट लिया और अब तो इस अनुच्छेद को भारतीय संविधान से ही मिटा दिया गया है. इसे कोई भ्रष्टाचार नहीं मानता! (ए आई आर १९५१ एस सी ४५८)

केवल उन्हें ही जीवित रहने का अधिकार है, जो ईसा का दास बने. (बाइबल, लूका १९:२७) और अल्लाह व उसके इस्लाम ने मानव जाति को दो हिस्सों मोमिन और काफ़िर में बाँट रखा है. धरती को भी दो हिस्सों दार उल हर्ब और दार उल इस्लाम में बाँट रखा है. (कुरान ८:३९) काफ़िर को कत्ल करना व दार उल हर्ब भारत को दार उल इस्लाम में बदलना मुसलमानों का मजहबी अधिकार है. (एआईआर, कलकत्ता, १९८५, प१०४). चुनाव द्वारा इनमें कोई परिवर्तन सम्भव नहीं.

भारत आज भी ब्रिटिश उपनिवेश (dominion) है. स्व(अपना)तन्त्र नहीं. भारतीय संविधान का अनुच्छेद ६(ब)(||) और भारत राष्ट्रकुल का सदस्य भी है. भारत के नागरिकों के स्व (अपने) तन्त्र की सीमायें हैं. भारत के नागरिक इन सीमाओं से बाहर नहीं जा सकते. जिनमें से मुख्य निम्नलिखित हैं,

नागरिक के पास सम्पत्ति नहीं रहने दी जायेगी. [भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३९(ग) और लुप्त अनुच्छेद ३१]. सम्पत्ति समाज की ही रहेगी. लूट का माल अल्लाह (कुरान ८:१; ४१ व ६९) और ईसाई (बाइबल, व्यवस्था विवरण २०:१४) का बना रहेगा. इसे भ्रष्टाचार भी नहीं माना जायेगा. दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के अधीन जनता के सम्पत्ति के लुटेरे लोकसेवकों का नियंत्रण राज्यपालों के हाथ में बना रहेगा. जब तक सोनिया को हिस्सा मिलेगा; लोक सेवकों की नौकरी पक्की. लूट शिष्टाचार बना रहेगा. हिस्सा नहीं मिलेगा, तो लूट भ्रष्टाचार बन जायेगा.

भारतीय संविधान कूटरचित परभक्षी अभिलेख है. क्यों कि पहला चुनाव ही १९५२ में हुआ. संविधान का संकलन कर उसे जनता के सामने नहीं रखा गया और न जनमत संग्रह हुआ. फिर हम भारत के लोगों ने संविधान को आत्मार्पित कैसे किया? हम अभिनव भारत और आर्यावर्त के लोगों ने यही पूछने का दुस्साहस किया है. इससे बड़ा दुस्साहस यह किया है कि हमने आर्यावर्त सरकार का गठन कर लिया है. इस प्रकार हमने सोनियाके लूट राज्य को चुनौती दी है. बंदा बैरागी, सिक्खों के दसो गुरुओं, गुरु गोविन्द सिंह के पुत्रों, भाई सती और मती दास की भांति हम सोनिया द्वारा सताए जा रहे हैं. तथाकथित स्वतंत्र न्यायपालिका के संज्ञान में साध्वी के रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई है. जगतगुरु को बिजली के झटके दिए गए. उनके मुंह में एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे द्वारा गोमांस ठूसा गया. योगगुरू रामदेव ने करकरे को शहीद घोषित कर  ९० लाख रुपया इनाम दिया. कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित का पैर तोड़ दिया गया. संयुक्त राष्ट्र संघ का मानवाधिकार संगठन चुप है. दुनिया के सभी सरकारी व गैर सरकारी मानवाधिकार संगठनों को सांप सूंघ गया है. मै विश्व के समस्त राष्ट्राध्यक्षों को राजनैतिक शरण के लिए लिख चुका हूँ. किसी ने मुझे शरण देने का साहस नहीं किया. इस्राएल और अमेरिका ने भी नहीं.

आप अकेले यह युद्ध नहीं लड़ सकते. धरती पर एक से बढ़ कर एक त्रिकालदर्शीयोद्धाचिन्तकसमाज सुधारक और बुद्धिमान पैदा हुएलेकिनमालेगांव व अन्य मस्जिदों पर विष्फोट के अभियुक्त और जेल में निरुद्धजगतगुरु श्री अमृतानंद के अतिरिक्त किसी ने भी ईसाइयत और इस्लाम का विरोध नहीं किया. उनके आशीर्वाद से हम आप के लिए लड़ रहे हैं. क्या आप हम लोगों की सहायता करेंगेताकि आप की आँखों के सामने आप की सम्पत्ति और घर न लूट ले, आप के दुधमुंहे आप की आँखों के सामने पटक कर न मार डाले जाएँ, नारियों का सोनिया बलात्कार न करा पाए और आप कत्ल न हों? (बाइबलयाशयाह १३:१६). 

मस्जिदों से ईमामों के खुतबों को ध्यान पूर्वक सुनिए. 

`ईमामों को कुरान के आदेशों को तोड़ मरोड़ कर पेश करने की भी आवश्यकता नहीं. भारतीय संविधान के अनुच्छेद २७ का उल्लंघन कर आप के कर से प्राप्त १० अरब रुपयों में से वेतन लेकर ईमाम बदले में कुरान के सूरह अनफाल (८) की सभी मुसलमानों को सीधी शिक्षा देते हैं. (एआईआर, एससी, १९९३, प० २०८६). अजान द्वारा ईमाम स्पष्ट रूप से गैर-मुसलमानों को चेतावनी देते हैं कि मात्र अल्लाह की पूजा हो सकती है. अल्लाह के आदेश से ईमाम कहता है कि काफ़िर मुसलमानों के खुले दुश्मन हैं. (कुरान ४:१०१). कुछ खुतबे कुरान के सूरह अनफाल (८) में स्पष्ट दिए गए हैं. अल्लाह निश्चय रूप से कहता हैं कि उसने मुसलमानों को जिहाद के लिए पैदा किया है, युद्ध (जिहाद) में लूटा हुआ माल, जिसमे नारियां भी शामिल हैं, अल्लाह और मुहम्मद का है. (कुरान ८:१, ४१ व ६९). जान लो जो भी माल लूट कर लाओ, उसका ८०% लूटने वाले का है. शेष २०% अल्लाह, मुहम्मद, ईमाम, खलीफा, मौलवी, राहगीर, यतीम, फकीर, जरूरतमंद आदि का है. (कुरआन ८:४१). लूट ही अल्लाह यानी सत्य है. लूट में विश्वास करने वाले विश्वासी हैं. (कुरआन ८:२). विश्वासी लूट के लिए घर छोड़ देते हैं, (कुरआन ८:५). मै गैर-मुसलमानों में भय पैदा करता हूँ. तुम अंतिम गैर-मुसलमान को मिटा दो. (कुरआन ८:७). गैर-मुसलमानों के गले काटो, उनके हर जोड़ पर वार करो और उनको असहाय कर दो. क्यों कि वे अल्लाह के विरोधी हैं, (कुरआन ८:१२). जो भी अल्लाह और मुहम्मद के आदेशों का उल्लंघन करता है, वह जान ले कि अल्लाह बदला लेने में अत्यंत कठोर है. (कुरआन ८:१३). काफ़िर के लिए आग का दंड है. (कुरआन ८:१४). जब काफिरों से लड़ो तो पीठ न दिखाओ. (कुरआन ८:१५). तुमने नहीं कत्ल किया, बल्कि अल्लाह ने कत्ल किया. (कुरआन ८:१७). मुसलमानों को लड़ाई पर उभारो. (कुरआन ८:६५). तब तक बंधक न बनाओ, जब तक कि धरती पर खून खराबा न कर लो. (कुरआन ८:६७). जो भी लूट का माल तुमने (मुसलमानों ने) प्राप्त किया है, उसे परम पवित्र मान कर खाओ. (कुरआन ८:६९). सत्य स्पष्ट है. काफिरों को आतंकित करने व समाप्त करने के लिए मुसलमानों में जोश पैदा करते हुए अल्लाह कहता है, जब तुम काफिरों से लड़ो, तो उनको इस तरह परास्त करो कि आने वाले समय में उन्हें चेतावनी मिले. काफ़िर यह जान लें कि वे बच नहीं सकते. (कुरआन ८:६०)

ईसाइयत और इस्लाम ने जहां भी आक्रमण या घुसपैठ की, उन्होंने वहाँ की मूल संस्कृति को नष्ट कर दिया. लक्ष्य प्राप्ति में भले ही शताब्दियाँ लग जाएँ, ईसाइयत और इस्लाम आज तक विफल नहीं हुए. भारतीय संविधान का संकलन वैदिक सनातन धर्म और उसके अनुयायियों को मिटाने के लिए हुआ है. ईसा १० करोड़ से अधिक अमेरिकी लाल भारतीयों उनकी माया संस्कृति को निगल गया. सोनिया काले भारतीयों और उनकी वैदिक संस्कृति को निगल रही है.

हमने बाबरी ढांचा गिराया है. हम ईसाइयत और इस्लाम के विरोधी हैं. क्यों कि मस्जिदों से हमारे वैदिक सनातन धर्म का और ईश्वर कादंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९६ के अधीन सरकार द्वारा दिए गए संरक्षण मेंईमामों द्वारा अपमान किया जाता हैमात्र मुहम्मद के कार्टून बना देने सेईशनिंदा के अपराध में कत्ल करने वाले मुसलमानों द्वाराईश्वर का अपमान कराने वाली सरकार को सत्ता में रहने का अधिकार नहीं. ईश निंदा के अपराध में हम मुसलमानों को कत्ल क्यों न करें

सोनिया को ईसा का राज्य स्थापित करना है. हमसे पाकपिता गाँधी ने स्व(अपना)तन्त्रता और रामराज्य का वादा किया है. हमें ईसा के रोम राज्य में रहने के लिए विवश नहीं किया जा सकता. आस्था की रक्षा गैर-मुसलमान का कानूनी अधिकार है. जो भी ईसाइयत और इस्लाम का संरक्षक है- मानव जाति का शत्रु है.

भ्रष्टाचार की जड़ संविधान का अ०३९(ग) व CrPC की धारा १९७ है| प्रेसिडेंटप्रधानमंत्री और राज्यपाल सोनिया द्वारा मनोनीत मातहत व उपकरण है. भारतीय संविधानने राज्यपालों के प्रभुता, पद और पेट को वैदिक सनातन धर्म के समूल नाश से जोड़ दिया है. राज्यपालों ने स्वेच्छा से अपने जीवन, सम्पत्ति, नारी और वैदिक सनातन धर्म से अपना अधिकार त्याग दिया है.

पूर्व राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी पर यौनाचार का आरोप है. उन्होंने त्यागपत्र दे दिया है. सोनिया के ईसा ने अपनी बेटियों से विवाह का अधिकार दिया है. (बाइबल, , कोरिन्थिंस ७:३६) और अल्लाह ने पुत्रवधू से निकाह का अधिकार. (कुरान, ३३:३७-३८) आर्यावर्त सरकार यह जानना चाहती है कि प्रेसिडेंट प्रतिभा या भारत के मुख्य न्यायाधीश कपाडिया ईसा अथवा अल्लाह के विरुद्ध क्या कार्यवाही कर रहे हैं? ज्ञातव्य है कि ईसा और अल्लाह के अपराध पूर्व राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी के अपराध से अधिक गंभीर हैं.

कर्नाटक में येदियुरप्पा के साथ जो भी हो रहा है, उसके पीछे सोनिया है. राज्यपाल हंसराज भरद्वाज वह करने के लिए विवश हैं, जो सोनिया चाहे. अन्यथा पूर्व राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी की भांति नप जायेंगे.

उप्र के मुख्य मंत्री मायावती ने शहर व जिला गोरखपुर स्थित हुतात्मा बिस्मिल के स्मारक की ३.३ एकड़ व मेरी १.८८ एकड़ भूमि लूटी हुई है. ताज कोरिडोर का घपला किया है. उसके पास आय से अधिक सम्पत्ति है. लेकिन उसे दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के अंतर्गत राज्यपाल बनवारी ने संरक्षण दिया है. क्योंकि सोनिया प्रदेश की लूट में मायावती से हिस्सा ले रही है. सोनिया बताए कि वह मायावती का संरक्षण कब समाप्त करेगी? और सीबीआई मायावती को कब बंदी बनाएगी?

जिन्हें देश, वैदिक सनातन धर्म और सम्मान चाहिए - हमारी सहायता करें. मानव मात्र बताए क्या भारतीय संविधान रहना चाहिए?

ईश्वर ने आप को विवेक दिया है, जिसे जेहोवा (बाइबल, उत्पत्ति २:१७) और अल्लाह (कुरान २:३५) अपने अनुयायियों से छीन लेते हैं. अपने भले बुरे का निर्णय आप के हाथ में है. आप रोम राज्य चाहेंगे, जो आप को मिटाएगी या आर्यावर्त सरकार जो आप को सम्पत्ति और उपासना का अधिकार देगी?

http://www.aryavrt.com/Home/aryavrt-in-news

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी

 

Ċ
AyodhyaP Tripathi,
Oct 16, 2011, 9:36 AM
ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Oct 16, 2011, 9:37 AM
Comments