Lane encroachment

! ॐ!

From: Ayodhya Prasad Tripathi

77, Khera Khurd, Delhi 110 082

Mob: 9868324025/9152579041

Letter No. 14412-1y                      Dated: Saturday, April 12, 2014

सेवामें,

महामहिम उपराज्यपाल, दिल्ली प्रदेश,

महोदय,

आप सहित इंडियन उपनिवेश के नागरिक जेसुइट महारानी एलिजाबेथ की प्रजा हैं, जिन्होंने अमेरिकी लाल भारतीयों के पश्चात आप सहित इंडिया के काले भारतीयों के नरसंहार की प्रतिज्ञा कर रखी है| मैं अब्रह्मी संस्कृतियों का विरोधी हूँ और अब्रह्मी संस्कृतियों का कोई विरोधी जीवित नहीं छोड़ा जाता| इसका विवरण आप को नीचे उल्लिखित लिंकों पर मिलेगा,

http://www.aryavrt.com/asma-bint-marwan

http://www.aryavrt.com/asama-binta-maravana

इस अनुस्मरण के साथ मैं आप के कार्यालय के द्वारा भेजे गए अतिरिक्त जिलाधीश (उत्तर), कृपानारायण मार्ग के वरिष्ठ नागरिक न्यायालय में की गई शिकायत के न्यायालय की लिंक भेज रहा हूँ| इसका विवरण मेरे द्वारा केन्द्र सरकार को भेजे गए शिकायतों के उत्तर से भी स्पष्ट हो जायेगा|

http://www.aryavrt.com/kland-forcible-dispossession

PRSEC/E/2011/16191

PRSEC/E/2013/11308

तमाम प्रार्थना पत्रों के बाद भी वरिष्ठ न्यायालय ने मुझे आज तक किसी तरह की सत्य प्रतिलिपि नहीं दी है| सरकार ने यह उत्तर देकर अपना पल्ला झाड लिया कि मामला न्यायालय में विचाराधीन है| लेकिन न्यायालय दंड प्रक्रिया संहिता की धाराओं १९६ व १९७ द्वारा एलिजाबेथ के अधीन है और आप एलिजाबेथ के भाड़े के मातहत| कोई निर्णय नहीं कर सकते!

मेरे मझले पुत्र मनोज त्रिपाठी ने मेरे विवादित भूमि के पश्चिम ओर की १६ फुट चौड़ी १०० लम्बी गली बेच दी है| इसके पहले भी इस गली के कब्जे को लेकर मैंने शिकायत की थी और रोहिणी कोर्ट में उसका मुकदमा भी चल रहा था| महामहिम मुझे कत्ल कराने के लिए विवश हैं|

भवदीय,

 

(अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी)

दिनांक: शनिवार, 12 अप्रैल 2014

 Your Registration Number is : GNCTD/E/2014/01781

ĉ
AyodhyaP Tripathi,
Apr 12, 2014, 10:13 AM
Comments