BRITISH UPNIVESH 14218

इंडिया आज भी ब्रिटिश उपनिवेश है| २००८ से जेल में बंद साध्वी प्रज्ञा ने स्वतंत्रता के उस युद्ध को प्रारम्भ कर दिया हैजिसे १५ अगस्त१९४७ से छल से रोका गया है| {भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम१९४७अनुच्छेद ६ (ब)(।।) भारतीय संविधान व राष्ट्कुल की सदस्यता}

जिसे इंडिया को भारत बनाना हो हमसे जुड़े| हम हैं अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार के बागी| पैगम्बरों के आदेश और अब्रह्मी संस्कृतियों के विश्वास के अनुसार दास विश्वासियों द्वारा अविश्वासियों को कत्ल कर देना ही अविश्वासियों पर दया करना और स्वर्गजहाँ विलासिता की सभी वस्तुएं प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैंप्राप्ति का पक्का उपाय है|

अमेरिका आज भी हैलेकिन लाल भारतीय और उनकी माया संस्कृति मिट गईइंडिया एलिजाबेथ का उपनिवेश है| एलिजाबेथ वैदिक सनातन संस्कृति मिटाएगीआप का मांस खाएगी और लहू पीयेगी| (बाइबलयूहन्ना ६:५३).  इंडिया तो रहेगालेकिन वैदिक सनातन संस्कृति और भारत के मूल निवासी न रहेंगेयदि रहेंगे भी तो दास बन कर| चुनाव द्वारा भी इनमें कोई परिवर्तन सम्भव नहींबचना हो तो अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार को सहयोग दीजियेयह युद्ध मात्र हम लड़ सकते हैंचर्चों व मस्जिदों से ईसाई व मुसलमान को वैदिक सनातन धर्म के अनुयायियों को कत्ल करने की शिक्षा दी जाती हैअतएव चर्च व मस्जिद नष्ट करना भारतीय दंड संहिता के धारा १०२ के अधीन सबका कानूनी अधिकार हैहमने बाबरी ढांचा गिराया हैहम मालेगांव व अन्य मस्जिदों में विष्फोट के अभियुक्त हैंहमारे ९ अधिकारी २००८ से जेलों में बंद हैंजिन लोगों को अपना जीवनअपनी आजादी और अपनी नारियों का और अपना सम्मान चाहिएवे हमे सहयोग दें तो हम अब्रह्मी संस्कृतियों को नहीं रहने देंगे|

http://www.aryavrt.com/Home/aryavrt-in-news

http://www.aryavrt.com/malegaon-notice-crpc160

अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी, फोन ९१५२५७९०४१ 


Comments