Bhrshtachari Kaun 11302

Your Request/Grievance Dtd 01-03-11 Registration Number is : PRSEC/E/2011/03204
भ्रष्टाचारी कौन?

ईश्वर उपासना की दासता नहीं थोपता. (गीता ७:२१) और न लूट के माल का स्वामी है| (मनुस्मृति ८:३०८). अरुण मिश्र वैदिक सनातन धर्म के अनुयायी हैं| मीडिया अरुण मिश्र के पीछे इसलिए पड़ी है कि सोनिया को वैदिक सनातन धर्म से खतरा है| इसके अतिरिक्त पोप भारत में आकर सोनिया को आदेश दे गया है कि २१ वीं सदी में सोनिया को पूरे एशिया को ईसा की भेंड़ बनाना है|

भारतीय संविधान का अनुच्छेद(१) जाति हिंसक, बलात्कारी व दासता पोषक है. देखें:-

अल्पसंख्यक-वर्गों के हितों का संरक्षण- "२९(१)- भारत के राज्यक्षेत्र या उसके किसी भाग के निवासी नागरिकों के किसी अनुभाग को, जिसकी अपनी विशेष

 भाषा, लिपि या संस्कृति है, उसे बनाये रखने का अधिकार होगा." भारतीय संविधान भाग ३ मौलिक अधिकार.

http://www.aryavrt.com/no-right-to-life

आप ईसा को राजा स्वीकार नहीं करते. (बाइबल, लूका १९:२७) अतएव सोनिया के पास आप को कत्ल करने का संवैधानिक असीमित मौलिक अधिकार है. आप अल्लाह के अतिरिक्त अन्य देवता की पूजा करते हैं. अतएव उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के पास सोनिया सहित आप की हत्या का संवैधानिक असीमित मौलिक अधिकार है. (एआईआर, कलकत्ता, १९८५, प१०४). चुनाव द्वारा इनमें कोई परिवर्तन सम्भव नहीं. आरती उतारिये लोकतंत्र और धूर्त चुनाव आयोग की.

भारतीय संविधान, जिसके अनुच्छेद ३९() के संरक्षण, संवर्धन व पोषण की राज्यपालों ने और बनाये रखने की, जजों ने शपथ ली है, से निकृष्ट भ्रष्टाचारी कौन हो

 सकता है? देखें:-

"३९(ग)- आर्थिक व्यवस्था इस प्रकार चले कि जिससे धन व उत्पादन के साधनों का सर्वसाधारण के लिए अहितकारी संकेन्द्रण न हो;" भारतीय संविधान के नीति निदेशक तत्व.

 अनुच्छेद ३९(ग).

ईसाइयत और इस्लाम को संरक्षण देने वाले भारतीय संविधान के अनुच्छेदों २९(१) व ३९(ग) की, भारतीय संविधान के अनुच्छेदों ६० व १५९ के अधीन शपथ लेकर, दंड

 प्रक्रिया संहिता की धारा १९६ व १९७ के अधीन संरक्षण देने के लिए विवश, सोनिया की चाकरी करने वाली प्रतिभा और प्रदेशों के राज्यपाल वैदिक सनातन धर्म और 

मानव जाति के शत्रु हैं| इसी भारतीय संविधान को बनाये रखने की शपथ लेने वाले जज न्याय कैसे करेंगे? जजों, राज्यपालों और लोक सेवकों के पास कोई विकल्प नहीं है| या तो वे स्वयं अपनी मौत स्वीकार करें, अपनी नारियों का अपनी आखों के सामने बलात्कार कराएँ, शासकों की दासता स्वीकार करें व अपनी संस्कृति मिटायें अथवा नौकरी न करें|

 ज्ञातव्य है कि उत्तर प्रदेश की मुख्य मंत्री मायावती को, सोनिया के दबाव में, दंड प्रक्रिया संहिता की धारा १९७ के अधीन महा महीम बनवारी संरक्षण दे रहे हैं| मायावाती लोक सेवकों को कत्ल करा रही है और नोटों की माला पहन रही है| सोनिया ने मेरी व हुतात्मा रामप्रसाद बिस्मिल के स्मारक की भूमि लूटी हुई है| मीडिया के पास साहस हो तो सोनिया की लूट को प्रकाशित कर के दिखाए|

http://www.aryavrt.com/nl-petition-transfered       

भवदीय: अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी

 

Comments