Bar girl molestation

Your Request/Grievance Registration Number is : PRSEC/E/2012/09733

Your Request/Grievance Registration Number is : PRSEC/E/2012/08809

President Secretariat, New Delhi - 110004

Dated; Sunday, July 15, 2012

Web site: http://helpline.rb.nic.in/

This is a public document. Any one can view the status from the web site by typing the above Request/Grievance Registration Number. There is no pass-word.

 http://in.jagran.yahoo.com/news/national/crime/Two-arrested-Guwahati-molestation-case-SI-suspended_5_18_9471017.html

यह छेड़छाड़ का मामला नहीं है|

सोनिया के रोम राज्य में एक नाबालिग दारूबाज वैश्या के विरुद्ध बोलने का साहस किसी में नहीं?

जी हाँ! हम अभिनव भारत और आर्यावर्त सरकार के लोगों ने होटल से शराब पी कर निकलने वाली लड़कियों के विरुद्ध मोर्चा खोल रखा है| हम ऐसी लड़कियों को यूं ही पीटेंगे| हम सोनिया और हामिद अंसारी की ईसाइयत और इस्लाम संस्कृति को स्वीकार नहीं करते|  

ईसा १० करोड़ से अधिक अमेरिकी लाल भारतीयों और उनकी माया संस्कृति को निगल गया| अब ईसा की भेंड़ सोनिया काले भारतीयों और उनकी वैदिक संस्कृति को निगल रही है| सोनिया के सहयोग से अर्मगेद्दन के पश्चात ईसा जेरूसलम को अपनी अंतर्राष्ट्रीय राजधानी बनाएगा| ममता व भूत पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम के प्रिय इस्लाम सहित सभी मजहबों और संस्कृतियों को निषिद्ध कर देगा| केवल ईसा और उसके चित्र की पूजा हो सकेगी| बाइबल के अनुसार ईसा यहूदियों के मंदिर में ईश्वर बन कर बैठेगा और मात्र अपनी पूजा कराएगा| हिरण्यकश्यप की दैत्य संस्कृति न बची और केवल उसी की पूजा तो हो न सकी, अब ईसा की बारी है| विशेष विवरण नीचे की लिंक पर पढ़ें,

http://www.countdown.org/armageddon/antichrist.htm

वैश्यावृत्ति के लिए समर्थन तो संयुक्तराष्ट्र से भी है! आप की कन्या को बिना विवाह बच्चे पैदा करने के अधिकार का संयुक्त राष्ट्र संघ कानून पहले ही बना चुका है. [मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा. अनुच्छेद २५(२)]. सोनिया जजों से शीघ्र ही कुमारी माताओं को इनाम देने का आदेश पारित कराएगी|

http://www.un.org/en/documents/udhr/

न मे स्तेनो जनपदे न कर्दर्यो न मद्यपो नानाहिताग्निर्नाविद्वान्न स्वैरी स्वैरिणी कुतो

छान्दोग्योपनिषद, पंचम प्रपाठक, एकादश खंड, पांचवां श्लोक

अर्थ: कैकेय देश के राजा अश्वपति ने कहा, मेरे राज्य में कोई चोर नहीं है, कंजूस नहीं, शराबी नहीं, ऐसा कोई गृहस्थ नहीं है, जो बिना यज्ञ किये भोजन करता हो, न ही अविद्वान है और न ही कोई व्यभिचारी है, फिर व्यभिचारी स्त्री कैसे होगी?

http://in.jagran.yahoo.com/news/sports/cricket/centre-becomes-strict-gowhati-incident_7_32_9467575.html का समाचार है, "डीजीपी चौधरी के अनुसार घटना में शामिल सभी लोगों की पहचान हो गई है और पुलिस उन्हें पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है। उन्होंने कहा कि मीडिया की सक्रियता के चलते पुलिस को आरोपियों को पहचानने और उन तक पहुंचने में काफी मदद मिली। डीजीपी के अनुसार सोमवार को चार लड़कियां और दो लड़के बार में गए थे, जब उन्होंने वहां पर शराब पीकर हंगामा किया तो बार के सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें बाहर निकाल दिया। बार के बाहर नशे की हालत में उन पर इलाके के लोगों ने हमला किया। इस दौरान एक लड़की भीड़ के हाथ आ गई और उसके साथ बदसलूकी हुई।"

यह सम्माननीय लड़की अवयस्क भी है| शराब भी पिए थी| इसने शराब पी कर बार में हंगामा भी किया था| लेकिन इसके विरुद्ध सरकार ने अभी तक अभियोग क्यों नहीं चलाया? सताए वे जा रहे हैं, जो सामाजिक वैश्यावृति और शराबी लड़कियों का विरोध कर रहे हैं| अतएव अब हम किसी लड़की को खुले आम रति क्रीड़ा करने का विरोध नहीं कर सकते| क्या हमारे पूर्वजों ने ऐसे ही राज्य के लिए बलिदान दिए थे?

नमूने देखिये,

इस सच्चरित्र और सम्माननीय लड़की ने अपने विरोधियों को फांसी देने की मांग की है| 

संपादक अतनु भुआं ने त्यागपत्र दे दिया|

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य अल्का लांबा को पद से हटा दिया गया!

असम के मुख्य मंत्री तरुण गोगोई से इस अवयस्क शराबी सम्माननीय लड़की ने मुलाकात कर ली है| मुझे नहीं मालूम कि मुख्यमंत्री ने ऐसी शराबी और वेश्या लड़कियों के अधिकारों की रक्षा का आश्वासन दिया या नहीं| 

लेकिन असम के मुख्यमंत्री ने इस मामले में पत्रकार की नैतिकता पर भी सवाल उठाया है। ऐसी नैतिक शराबी और वेश्या लड़कियों की नैतिकता सोनिया के रोम राज्य की देन हैं|

मामले में गुवाहाटी के शहर एसएसपी अपूर्व जीवन बरुआ का ट्रासफर कर दिया गया है। 

भाजपा नेता स्मृति ईरानी ने इस अवयस्क शराबी सम्माननीय लड़की की सुरक्षा न कर पाने पर असम सरकार की निंदा की है|
और तो और  इस सच्चरित्र और सम्माननीय लड़की के साथ लोगों के व्यवहार के कारण प्रतिबंधित उग्रवादी गुट उल्फा ने भी इस घटना की निंदा की है। उल्फा ने कहा है कि इस घटना ने असम की जनता का सिर दुनिया के सामने शर्म से झुका दिया है। तो क्या असम की सभी सच्चरित्र नारियां पबों में शराब पीती हैं और रात में पर पुरुषों के साथ सहवास करती हैं?

समाचार है कि "विधानसभा में हंगामा

"इस मसले पर विधानसभा में भी हंगामा हुआ। अध्यक्ष की ओर से कार्यस्थगन प्रस्ताव को नामंजूर किए जाने के बाद एआईयूडीएफ, असम गण परिषद और भाजपा सदस्यों ने सदन की कार्रवाही का बहिष्कार किया। इस मसले में अब पीड़िता को मुआवजा दिए जाने की मांग भी उठ रही है। इस संबंध में एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई है।

"सुप्रीम कोर्ट से आर्थिक मदद की अपील

"इंदौर के एक बुजुर्ग ने गुवाहाटी की घटना की पीड़ित लड़की को आर्थिक मदद के लिए सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई है। सत्यपाल आनंद ने पीड़ित लड़की को 27 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने की अर्जी दी है। उनका कहना है कि असम सरकार देश के संविधान के अनुसार लड़की को सुरक्षा देने में विफल रही है।"

हमारी अपनी नारियों को क्यों भ्रष्ट किया जा रहा है? ऐसे रोम राज्य को हम क्यों स्वीकार कर रहे हैं?

रोम राज्य में लव जेहाद, सहजीवन, समलैंगिक मैथुन, कुमारी माताओं को और सगोत्रीय विवाह को न्यायालय द्वारा सम्मानित किया जा रहा है|

यह आश्चर्य है कि रोम राज्य का कोई लोकसेवक आज तक लड़की के चरित्र का विरोध करने का साहस नहीं जुटा पाया है| 

सोनिया को परेशानी यह है कि हमारा ईश्वर जारज और प्रेत नहीं है| जारज हमारे लिए अपमानजनक सम्बोधन हो सकता है, लेकिन अंग्रेजों का शासक परिवार सम्मानित जारज है| इतना ही नहीं ईसाइयों का मुक्तिदाता ईसा ही जारज है| हम वैदिक सनातन धर्म के अनुयायी कुमारी माताओं को संरक्षण और सम्मान नहीं देते| हमारे इंडिया में ईसाई घरों में भी कुमारी माताएं नहीं मिलतीं| हमारी कन्याएं १३ वर्ष से भी कम आयु में बिना विवाह गर्भवती नहीं होतीं| हमारे यहाँ विद्यालयों में गर्भ निरोधक गोलियाँ नहीं बांटी जाती|

सोनिया द्वारा इंडिया में यौन शिक्षा लागू हो चुकी है| वीर्यहीनता के प्रसार और देश के नागरिकों को बैल बनाने में सोनिया सफल हो रही है|

उज्ज्वला शर्मा के पूर्व राज्यपाल नारायण दत्त तिवारी के साथ वैश्यावृत्ति को समर्थन तो दिल्ली उच्च न्यायालय स्वयं दे रही है|

नीचे मैं राम चरित मानस की पंक्तियाँ उद्धृत कर रहा हूँ,

अनुज बधू भगिनी सुत नारी| सुनु सठ कन्या सम ए चारी|

इन्हहिं कुदृष्टि बिलोकइ जोई| ताहि बधें कछु पाप न होई||

राम चरित मानस, किष्किन्धाकाण्ड; ;

अर्थ: [श्री रामजी ने कहा] हे मूर्ख! सुन, छोटे भाई की स्त्री, बहिन, पुत्रवधू और कन्या ए चारों समान हैं| इनको जो कोई बुरी दृष्टि से देखता है, उसे मारने में कुछ भी पाप नहीं होता|

वैदिक सनातन धर्म के उपरोक्त उद्धरण के अनुसार किसी भी ईसाई या मुसलमान का वध पाप नहीं है| क्या सोनिया ईसाई मजहब का परित्याग करेगी? यदि नहीं तो आप सोनिया का वध करने के लिए क्या उपाय कर रहे हैं? क्या सम्वेदनशील लोग ईसाइयत और इस्लाम को मिटाने में आर्यावर्त सरकार की सहायता कर सकते हैं?

निर्णय आप के हाथों में

आप को जगतगुरु स्वामी अमृतानंद देवतीर्थ की आर्यावर्त सरकार चाहिए या सोनिया का रोम राज्य?

Comments