Home‎ > ‎

Deepak

ईसाइयत और इस्लाम ने जहां भी आक्रमण या घुसपैठ की, उन्होंने वहाँ की मूल संस्कृति को नष्ट कर दिया. लक्ष्य प्राप्ति में भले ही शताब्दियाँ लग जाएँ, ईसाइयत और इस्लाम आज तक विफल नहीं हुए. भारतीय संविधान का संकलन वैदिक सनातन धर्म और उसके अनुयायियों को मिटाने के लिए हुआ है.

इससे भयानक बात यह है कि ईसा १० करोड़ से अधिक अमेरिकी लाल भारतीयों और उनकी माया संस्कृति को निगल गया. अब ईसा की भेंड़ सोनिया काले भारतीयों और उनकी वैदिक संस्कृति निगल रही है. जिन्हें देश, वैदिक सनातन धर्म और सम्मान चाहिए-हमारी सहायता करें.

यह मीडिया की ही महिमा है कि ४ मस्जिदों में विष्फोट करके हम भगवा आतंकवादी हैं और मात्र कश्मीर में १०८ मंदिर तोड्ने वालों की संरक्षक सोनिया आतंकवादी नहीं.  

हम आर्यावर्त सरकार और अभिनव भारत के लोग आमने सामने की लड़ाई लड़ रहे हैं. हमारे १२ अधिकारी मक्का, मालेगांव आदि के विष्फोट में विभिन्न जेलों में बंद हैं. हमारे पूर्वजों ने ईसा को अपना राजा स्वीकार नहीं किया. उलटे १८५७ से ही ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध युद्ध छेड़ दिया. हमें इसी अपराध के लिए १९४७ से ही दंडित किया जा रहा है. भारतीय संविधान का संकलन षड्यंत्र है.

 अफजल हो या कसाब, सभी सोनिया के सहयोगी हैं. अनुच्छेद २९(१).का संकलन आर्य यानी तथाकथित हिन्दू जाति का नरसंहार करने के लिए किया गया है. जब तक सोनिया का रोम राज्य स्थापित नहीं हो जाता, सभी को मिटाया जायेगा. चाहे हिंदू मरे या मुसलमान अन्ततः ईसा का शत्रु मारा जायेगा. यदि मीडिया देश और मीडिया का भला चाहे तो भारतीय संविधान को मिटाने में आर्यावर्त सरकार की मदद करे. 

Comments